लाइव टीवी
Elec-widget

JNU की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों पर सुझाव के लिए समिति बनी

News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 3:36 PM IST
JNU की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों पर सुझाव के लिए समिति बनी
जेएनयू छात्र हॉस्‍टल फीस में हुई वृद्धि‍ को लेकर व‍िरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

समिति छात्रों और प्रशासन से तत्काल बातचीत आरंभ करेगी और उठाए जाने वाले कदमों के बारे में सिफारिश देगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 3:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली: मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने सोमवार को तीन सदस्यीय एक समिति गठित की, जो जवाहर लाल नेहरू विश्‍वविद्यालय (जेएनयू) की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों पर सुझाव देगी. मंत्रालय ने यह कदम ऐसे दिन उठाया है, जब जेएनयू छात्रों ने छात्रावास शुल्क बढ़ाने के खिलाफ प्रदर्शन जारी रखते हुए संसद तक विरोध मार्च करने की योजना बनाई है.

एचआरडी सचिव आर सुब्रह्मण्यम ने कहा कि सभी पक्षों के साथ बातचीत के जरिए जेएनयू की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने और विवादित मामलों के समाधान के लिए विश्‍वविद्यालय प्रशासन को सलाह देने के लिए सरकार ने तीन सदस्यीय एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति गठित की है.

इस समिति में पूर्व यूजीसी अध्यक्ष वी एस चौहान, एआईसीटीई अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे और यूजीसी सचिव रजनीश जैन शामिल हैं. सुब्रह्मण्यम ने कहा कि समिति छात्रों और प्रशासन से तत्काल बातचीत आरंभ करेगी और उठाए जाने वाले कदमों के बारे में सिफारिश देगी. यूजीसी समिति की कार्यप्रणाली के लिए आवश्यक समर्थन मुहैया कराएगी.

उल्लेखनीय है कि यूनिवर्सिटी के छात्र उस छात्रावास नियमावली के खिलाफ तीन सप्ताह से प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसमें छात्रावास का शुल्क बढ़ाने, ड्रेस कोड तय करने और छात्रावास में आने-जाने का समय तय करने की बात की गई है.

यह भी पढ़ें:

JNU फीसवृद्धि विवाद: हॉस्टल में एंट्री और ड्रेस कोड संबंधी नियमों को लिया गया वापस

Sarkari Naukari 2019: CISF में है हेड कांस्‍टेबल बनने का मौका, कैसे होगा सेलेक्‍शन-जानें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 3:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...