कोरोना का डर: डीयू की सभी लाइब्रेरी 31 तक बंद, जेएनयू ने स्टूडेंट्स को घर जाने के लिए कहा

कोरोना का डर: डीयू की सभी लाइब्रेरी 31 तक बंद, जेएनयू ने स्टूडेंट्स को घर जाने के लिए कहा
कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए जेएनयू ने छात्रों को घर लौटने को कहा है.

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए जेएनयू ने छात्रों को घर लौटने को कहा है. जेएनयू प्रशासन का कहना है कि इस संबंध में केंद्र सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का पालन किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2020, 12:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) ने 31 मार्च तक विद्यार्थियों के लिए सभी पुस्तकालयों को बंद करने का आदेश दिया है. बता दें कि इससे पहले 12 मार्च को विश्वविद्यालय प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर 31 मार्च तक रेगुलर क्लासेस को बंद करने के लिए कहा था.

इसके बारे में डीयू के कार्यवाहक रजिस्ट्रार पीआर राघव ने प्रेस नोट जारी कर सूचित किया है. इस नोट में कहा गया है कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए 31 मार्च तक विश्वविद्यालय के सभी पुस्तकालयों को बंद करने का फैसला किया गया है. इस दौरान विश्वविद्यालय में डिपार्टमेंट, कॉलेज और सेंटर पर रेगुलर क्लास 31 मार्च तक नहीं होगीं.

वहीं कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए जेएनयू ने छात्रों को घर लौटने को कहा है. जेएनयू प्रशासन का कहना है कि इस संबंध में केंद्र सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का पालन किया जा रहा
है. जेएनयू प्रशासन ने पिछले 28 दिनों में कोरोना प्रभावित देशों की यात्रा करने वालों की लोगों के बारे में अधिकारियों से जानकारी मांगी है. जेएनयू ने एक अधिसूचना जारी कर कहा कि विश्वविद्यालय परिसर में
कॉन्फ्रेंस, सेमिनार, कार्यशाला, सांस्कृतिक गतिविधियां भी फिलहाल बंद रहेंगी. हालांकि, छात्रावास की सुविधा विदेशी छात्रों और उन छात्रों के लिए जारी रहेगी, जिनके पास वैध कारण हो.



जेएनयू ने कहा ह् कि इस दौरान परिसर में किसी भी बाहरी मेहमान को नहीं आने दिया जाएगा. इसके साथ ही हॉस्टल में छात्रों के एकत्र न होने की सलाह दी गई है. जेएनयू परिसर में 31 मार्च तक लाइब्रेरी, जिम, योग सेंटर, कैंटीन जैसी साझा सुविधाएं बंद रहेंगी.

अधिकारियों को ड्यूटी पर आना होगा
हालांकि इस दौरान सभी फैकल्टी सदस्यों, अधिकारियों, कर्मचारियों को अपनी ड्यूटी पर आना होगा. दफ्तर का काम बिना किसी बदलाव के सामान्य तरीके से जारी रहेगा.

ये भी पढ़ें- कोरोना के डर से घरों में कैद स्टूडेंट्स ले रहे ऑनलाइन स्टडी का सहारा, कई ऐप्स ने किया फ्री एक्सेस देने का ऐलान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज