अब बिहार में मेडिकल कॉलेज से सीधे होगी डॉक्टरों की नियुक्ति

बिहार में डॉक्‍टरों की कमी को दूर करने के लिए राज्‍य सरकार ने एक नई पहल की है. इसके मुताबिक अब राज्‍य में मेडिकल कॉलेज से सीधे डॉक्‍टरों की नियुक्‍ति की जाएगी.

News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 12:39 PM IST
अब बिहार में मेडिकल कॉलेज से सीधे होगी डॉक्टरों की नियुक्ति
बिहार में मेडिकल कॉलेज कैम्पस से सीधे होगी डॉक्टरों की नियुक्ति
News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 12:39 PM IST
बिहार में डॉक्‍टरों की कमी को दूर करने के लिए राज्‍य सरकार ने एक नई पहल की है. इसके मुताबिक अब राज्‍य में मेडिकल कॉलेज से सीधे डॉक्‍टरों की नियुक्‍ति की जाएगी. इस बाबत उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि एक साल में डॉक्टरों की रिक्तियों को भरने के लिए मेडिकल कॉलेज कैम्पस से सीधे नियुक्तियां की जाएंगी. ये बात उपमुख्यमंत्री ने इंडियन कॉलेज ऑफ कार्डिडयोलॉजी के वार्षिक सम्‍मेलन के उद्घटन पर कही.

मोदी ने कहा कि तमिलनाडु में जहां 49 मेडिकल कॉलेज और 253 आबादी पर एक डॉक्टर हैं, वहीं केरल में 34 मेडिकल कॉलेज और 535 पर 1 डॉक्टर, कर्नाटक में 57 मेडिकल कॉलेज और 507 की आबादी पर एक डॉक्टर, जबकि बिहार में केवल 13 मेडिकल कॉलेज और 3207 आबादी पर एक डॉक्टर हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक के अनुसार प्रति 1000 की आबादी पर एक डॉक्टर होना चाहिए.

दिल्ली में एक हजार की आबादी पर तीन तो केरल और तमिलनाडु में 1.5 डॉक्टर हैं. मोदी ने कहा कि पटना के आईजीआईएमएस, बेतिया व पावापुरी में एमबीबीएस की पढ़ाई शुरू हो गयी है. पूर्णिया में 365 करोड़ से 300 बेड का, छपरा में 425 करोड़ से 500 बेड का, मधेपुरा में 781 करोड़ तथा बेतिया में 775 करोड़ की लागत से मेडिकल कॉलेज व अस्पताल बन रहे हैं.

मोदी ने कहा कि वैशाली, बेगूसराय, सीतामढ़ी, झंझारपुर और बक्सर में मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के निर्माण के लिए भी बजट जारी कर दिया गया है, इसलिए जल्‍द ही आगे की प्रकिया पूरी कर ली जाएगी.

ये भी पढ़ें: 
First published: August 5, 2019, 12:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...