इस्‍लाम पर रिसर्च करने के लिए इस शख्‍स को 2 करोड़ रुपये देगी सरकार

डॉ. महमूद कूरिया (Dr Mahmood Kooria) को इस्‍लाम पर रिसर्च करने के लिए 2 करोड़ रुपये मिलेगे. इसकी मदद से वे वह ये स्टडी करेंगे कि कैसे मैट्रियार्कियल मुसलमान शरिया (इस्लामिक लॉ) के साथ जुड़े हैं.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 3:29 PM IST
इस्‍लाम पर रिसर्च करने के लिए इस शख्‍स को 2 करोड़ रुपये देगी सरकार
Dr Mahmood Kooria
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 3:29 PM IST
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के पूर्व छात्र और युवा शोधार्थी डॉ. महमूद कूरिया (Dr Mahmood Kooria) इस्‍लाम पर रिसर्च करने के लिए दो करोड़ रुपये की ग्रांट दी जाएगी. इस भारी-भरकम रकम की मदद से वह ये स्टडी करेंगे कि कैसे मैट्रियार्कियल मुसलमान शरिया (इस्लामिक लॉ) के साथ जुड़े हैं. इसके अलावा कई अन्‍य पहलुओं पर भी अध्‍ययन करेंगे. उन्‍हें ये रकम नीदरलैंड की लीडेन यूनिवर्सिटी देगी. नीदरलैंड की लीडेन यूनिवर्सिटी उन्‍हें 'मैट्रियार्कियल इस्लामः जेंडरिंग शरिया इन द इंडियन ओशन वर्ल्ड' के लिए 2.50 लाख यूरो (2 करोड़ रुपये) की रकम देगी.

इस बारे में मीडिया रिपोर्ट में डॉ. महमूद ने कहा कि 'वेनी ग्रांट की मदद से मैं जो स्टडी करूंगा, उससे मुझे मुस्लिम समुदाय को और बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलेगी. उनके ऊपर अलग-अलग रूढ़िवाद थोपने के बजाय दुनिया को मुस्लिम समुदाय में मौजूद विभिन्नता को समझना चाहिए.



गौरतलब है कि डॉ. महमूद कूरिया ने लीडेन यूनिवर्सिटी के इंस्टीट्यूट ऑफ हिस्ट्री से अपनी पीएचडी पूरी की है. इसके पहले उन्होंने अपनी यूजी और पीजी की पढ़ाई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू), दारूल हूडा इस्लामिक यूनिवर्सिटी और कैलीकट यूनिवर्सिटी से पूरी की है.

ये भी पढ़ें: 

JEE Main Exam Tips: पहली बार में क्रैक करें JEE Exam, जानें

ओबीसी-दलित स्टूडेंट्स को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 3:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...