विज्ञान एवं इंजीनियरिंग में महिला वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं के लिए बड़ी खबर, DST ने शुरू की योजना

इस योजना में जो महिला वैज्ञानिक शामिल होंगी. उन्हें तीन वर्षों तक 60 लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी.
इस योजना में जो महिला वैज्ञानिक शामिल होंगी. उन्हें तीन वर्षों तक 60 लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी.

नियमित आय के अलावा फेलोशिप में 15 हजार रुपये प्रति महीने दिया जाएगा जबकि शोध अनुदान राशि तीन वर्षों के लिए दस लाख रुपये प्रति वर्ष होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 5:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने Department Of Science & Technology की ओर से सर्ब-पावर योजना की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के क्षेत्र में महिला शोधकर्ताओं को शोध एवं विकास गतिविधियों के लिए प्रोत्साहित करना है.

नियमित महिला शोधकर्ताओं को दो श्रेणियों में कार्य करने के लिए प्रोत्साहित
योजना के तहत शैक्षणिक एवं शोध संस्थानों में नियमित महिला शोधकर्ताओं को दो श्रेणियों में शोध सहयोग के जरिये उच्च स्तर के अनुसंधान एवं विकास कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा. ये दो श्रेणियां हैं- पावर फेलोशिप और सर्ब पावर शोध अनुदान.

पावर फेलोशिप और सर्ब पावर शोध
सर्ब पावर फेलोशिप शीर्ष महिला शोधकर्ताओं को व्यक्तिगत फेलोशिप और शोध अनुदान की तीन वर्षों के लिए पेशकश करता है जबकि सर्ब पावर शोध अनुदान विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के सभी संकायों में उच्च प्रभाव वाले शोध के वित्त पोषण को सुनिश्चित करता है.



महिला शोधकर्ताओं को सशक्त बनाने के महत्व पर जोर 
विज्ञान एवं इंजीनियरिंग शोधवि बोर्ड (सर्ब) ज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तहत निकाय है. डिजिटल समारोह में हर्षवर्धन ने एस एंड टी क्षेत्र में महिला शोधकर्ताओं को सशक्त बनाने के महत्व पर जोर दिया.

विज्ञान प्रौद्योगिकी में महिला वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित करने पर भी जोर 
महिला वैज्ञानिकों के समक्ष आ रही कॅरियर में बाधा जैसी समस्याओं को उजागर करते हुए हर्षवर्धन ने कहा कि उन पर विशेष ध्यान दिए जाने और समर्थन के वैकल्पिक तरीकों की जरूरत है. उन्होंने कहा कि नए विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं अन्वेषण नीति (एसटीआईपी) में महिला वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित करने पर भी जोर दिया जाएगा. सर्ब पावर फेलोशिप 35 से 55 वर्ष के उम्र वर्ग की महिला शोधकर्ताओं को दिया जाएगा.

फेलोशिप में 15 हजार रुपये प्रति महीना
नियमित आय के अलावा फेलोशिप में 15 हजार रुपये प्रति महीने दिया जाएगा जबकि शोध अनुदान राशि तीन वर्षों के लिए दस लाख रुपये प्रति वर्ष होगा.

तीन सालों में 60 लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी
सर्ब पावर शोध अनुदान के तहत महिला शोधकर्ताओं को दो श्रेणियों में धन दिया जाएगा. पहली श्रेणी में आईआईटी, आईआईएसईआर, आईआईएससी, एनआईटी, केंद्रीय विश्वविद्यालयों और केंद्र सरकार के राष्ट्रीय प्रयोगशाला की महिला वैज्ञानिक शामिल होंगी. उन्हें तीन वर्षों तक 60 लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी.

ये भी पढ़ें
NITI आयोग भर्ती 2020: नीति आयोग में 30 वैकेंसी, सैलरी 2.65 लाख तक, 24 Dec लास्ट डेट
SSC सेलेक्शन पोस्ट फेज 7 एडिशनल रिजल्ट 2020 ssc.nic.in पर जारी, इस डायरेक्ट लिंक से करें चेक

तीन वर्षों तक 30 लाख रुपये की राशि दी जाएगी
दूसरी श्रेणी में राज्य विश्वविद्यालयों, कॉलेजों एवं निजी संस्थानों की महिला वैज्ञानिक एवं शोधकर्ता शामिल होंगी. उन्हें तीन वर्षों तक 30 लाख रुपये की राशि दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज