DU के पिछले साल के पास स्टूडेंट्स को मिलेगी ऑनलाइन डिजिटल डिग्री

DU के पिछले साल के पास स्टूडेंट्स को मिलेगी ऑनलाइन डिजिटल डिग्री
छात्र ऑनलाइन पोर्टल www.digicerti.du.ac.in पर रजिस्ट्रशन करा सकते है.

दिल्ली यूनिवर्सिटी ने दिल्ली हाई कोर्ट से कहा पिछले साल तक यूनिवर्सिटी से पास आउट छात्र ऑनलाइन पोर्टल www.digicerti.du.ac.in पर रजिस्ट्रशन करा सकते है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 3:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली यूनिवर्सिटी से जो छात्र पिछले साल पास हुए और अभी तक यूनिवर्सिटी से डिग्री नहीं ले पाए है. उनको दिल्ली यूनिवर्सिटी ऑनलाइन डिजिटल डिग्री, सर्टिफिकेट देगी. ऐसा दिल्ली यूनिवर्सिटी ने दिल्ली हाई कोर्ट से कहा है.

दिल्ली यूनिवर्सिटी ने दिल्ली हाई कोर्ट से कहा है कि जो लोग पिछले साल तक यूनिवर्सिटी से पास आउट हुए है अब तक अपना डिग्री यूनिवर्सिटी से नही ले पाए है वो लोग ऑनलाइन पोर्टल www.digicerti.du.ac.in पर रजिस्ट्रशन करा सकते है.

छात्र अपने कॉलेज का नाम और अपना साल यानी पूरी डिटेल के साथ पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करें. यूनिवर्सिटी उन्हें एक सप्ताह के भीतर ऑनलाइन डिजिटल डिग्री देगी. दरअसल, 2018 और 2019 में पास आउट 21 डॉक्टरों ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि उन्हें अभी तक यूनिवर्सिटी के तरफ से डिग्री नही मिली है.



इसी याचिका पर सुनवाई के दौरान यूनिवर्सिटी ने दिल्ली हाई कोर्ट में जवाब दायर किया और कहा कि एक सप्ताह के अंदर ऑनलाइन डिजिटल डिग्री प्रदान करेंगे.
अदालत ने पहले लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की परीक्षा पास करने वाले पांच डॉक्टरों की याचिका पर सुनवाई थी. उनकी भी डिग्री रुकी थी. तब अदालत ने कहा था कि छात्रों को अपने अंकपत्र, डिग्री, प्रमाणपत्र आदि दस्तावेजों के लिए अदालत जाने को मजबूर नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि ये सभी चीजें एक तय समय सीमा में अपने-आप उन्हें दी जानी चाहिए.

ये भी पढ़ें-
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में हुए रिकॉर्ड प्लेसमेंट्स, 35 लाख सालाना तक मिले ऑफर
बड़ी बात: कॉलेज में 14 दिन क्वारंटीन रहेंगे स्टूडेंट्स, फिर देंगे एग्जाम!

तब डीयू की ओर से पेश हुए वकील मोहिन्दर रुपल ने अदालत से कहा कि एक अन्य मामले में उसके फैसले का पालन करते हुए डिग्रियां छापने के लिए निविदा प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. सुनवाई करते हुए  न्यायमूर्ति प्रतिभा एम. सिंह ने कहा था, ‘‘छात्र, खास तौर से वे डॉक्टर जो कोविड-19 महामारी के दौरान अपनी सेवा मुहैया करा रहे हैं, उन्हें अपने प्रमाणपत्रों और डिग्रियों के लिए अदालत आने को मजबूर नहीं किया जाना चाहिए. वो भी तब जब वह दो साल पहले परीक्षा पास कर चुके हैं.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज