DU Open Book Exam: डीयू ओपन बुक एग्जाम के दौरान मचा हड़कंप, छात्रों को मिला गलत पेपर

दिल्ली यूनिवर्सिटी ओपन बुक एग्जाम के दौरान गलत पेपरअपलोड कर दिया गया.

दिल्ली यूनिवर्सिटी ओपन बुक एग्जाम के दौरान गलत पेपरअपलोड कर दिया गया.

DU Open Book Exam, DU online Exam: डीयू में ओपन बुक एग्जाम के दौरान प्रश्पत्र गलत आ जाने के कारण छात्रों को काफी तनाव का सामना करना पड़ा. बाद में सही पेपर अपलोड किया गया लेकिन कुछ छात्रों को इसके बारे में पता नहीं चल पाया और उन्होंने गलत पेपर का ही जवाब लिख कर आंसरशीट को अपलोड कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 9:46 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली यूनिवर्सिटी ओपन बुक एग्जाम (Delhi University’s online open book examination, OBE) से जुड़ी समस्या खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही. रोज़ाना कुछ न कुछ दिक्कत या परेशानी सुनने में आती है. पिछले दिनों छात्रों को क्वेस्चन पेपर डाउनलोड करने और कॉपियों को अपलोड करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था लेकिन शुक्रवार को इससे भी एक बड़ी बात हुई. दरअसल शुक्रवार को छात्रों को गलत क्वेस्चन पेपर दे दिए गए. जिन छात्रों को इस बात का पता नहीं लग पाया उन्होंने गलत प्रश्नपत्र का ही उत्तर लिख कर जमा कर दिया.

दो मोड से मिलता है छात्रों को प्रश्नपत्र

छात्रों को दो मोड से प्रश्नपत्र मिलता है. एक तो परीक्षा शुरू होने के आधे-एक घंटे पहले ईमेल के जरिए. दूसरा परीक्षा शुरू होने पर डीयू के ओबीई पोर्टल पर. सुबह 11 बजे बीए (ऑनर्स) पोलिटिकल साइंस के छात्रों को उनके ईमेल आईडी पर मॉडर्न पोलिटिकल फिलोसफी का पेपर मिला लेकिन इस पर ऊपर लिखा हुआ था- 'सैंपल क्वेस्टन पेपर फॉर मॉक टेस्ट.' इसमें पूछे गए प्रश्न पहले मॉक टेस्ट में पूछे गए प्रश्नों वाले थे.

वॉट्सऐप ग्रुप पर मिली जानकारी
इंडियन एक्सप्रेस
के मुताबिक कालिंदी कॉलेज एक स्टूडेंट ने बताया, जब हमने पेपर देखा तो हम सभी चौंक गए. हमारे टीचर ने हमें इंतज़ार करने को कहा. उनका कहना था कि पेपर को ओबीई पोर्टल पर अपलोड किए जाने का इंतज़ार कर लो. हमने साढ़े 11 बजे तक इंतज़ार किया, लेकिन वहां भी वही पेपर दिखा. तब हमने वही पेपर करना शुरू कर दिया. लेकिन सवा बारह बजे वॉट्सऐप ग्रुप पर एक मैसेज दिखाई दिया कि पोर्टल पर एक नया पेपर अपलोड कर दिया गया है. हमें ईमेल के जरिए इसकी जानकारी नहीं दी गई थी. ऐसा लगता है कि हमसे उम्मीद की जाती है कि हम पेपर देते वक्त फोन चेक करते रहें. इसके बाद मैंने पहला पेपर छोड़ दिया और दूसरे पेपर को करना शुरू कर दिया.'

टेक्निकल एरर होने से इनकार

वहीं इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक डीयू के कंप्यूटर सेंटर के हेड संजीव सिंह ने कहा कि यह टेक्निकल एरर नहीं थी. उन्होंने कहा कि हमें जो भी अपलोड करने को दिया जाता है वह अपलोड कर दिया जाता है. डीन ऑफ एग्जामिनेशन विनय गुप्ता ने किसी भी कॉल या मैसेज का जवाब नहीं दिया.



कॉलेजों के नोडल ऑफिसर्स ने डीयू को लिखा पत्र

हालांकि, छात्रों को कुछ अतिरिक्त समय दिया गया ताकि वे पेपर को कंप्लीट कर सकें, लेकिन कुछ छात्रों को पेपर चेंज होने के बारे में पता ही नहीं चला. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक हिंदू कॉलेज के एक स्टूडेंट ने कहा कि 'मैंने ढाई बजे अपना पेपर खत्म करके इसे अपलोड कर दिया और तब मैंने अपना वॉट्सऐप ग्रुप चेक किया तब मुझे पता चला कि नया क्वेस्चन पेपर बाद में डाला गया था. मुझे काफी चिंता हो रही है.' कई कॉलेजों के नोडल ऑफिसर्स ने इसके बारे में डीयू को लिखा है.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज