Home /News /career /

M.Phil-Ph.D. के शोधार्थियों का वीडियो कॉऩ्फ्रेंसिंग से होगा वायवा, शोध लिखने को मिलेगा 6 महीने का समय

M.Phil-Ph.D. के शोधार्थियों का वीडियो कॉऩ्फ्रेंसिंग से होगा वायवा, शोध लिखने को मिलेगा 6 महीने का समय

यूजीसी की गाइडलाइंस के अनुसार, परीक्षा से दस दिन पहले छात्रों को जानकारी दे दी जाएगी.

यूजीसी की गाइडलाइंस के अनुसार, परीक्षा से दस दिन पहले छात्रों को जानकारी दे दी जाएगी.

Corona Virus: देश में चल रहे लॉकडाउन (Lockdown) के कारण पीएचडी के शोधार्थियों का वायवा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगा. शोधार्थियों को रिसर्च वर्क (Resarch work) पूरा करने के लिए छह महीने का अतिरिक्त समय भी दिया जाएगा.

    नई दिल्ली. लॉकडाउन के एम.फिल और पीएचडी के रिसर्च स्कॉलर्स का यूजीसी कोई नुकसान नहीं होने देना चाहती है. इसीलिए यूजीसी ने शोधार्थियों के लिए कुछ खास व्यवस्था की है. समिति की सिफारिश पर एमफिल और पीएचडी के शोधार्थियों को शोध लिखने के लिए छह माह का अतिरिक्त समय देने का ऐलान किया है. इसके साथ ही जिन शोधार्थियों का वायवा होना है उनका नुकसान न हो. इसलिए वायवा वीडियो कॉऩ्फ्रेंसिंग के द्वारा कराने के लिए कहा है.

    समिति ने अपनी सिफारिश में यूजीसी से कहा कि लॉकडाउन के चलते अगर वायवा रोका गया तो लाखों पीएचडी के शोधार्थी 'डॉक्टर' की उपाधि पाने से साल भर पीछे जा सकते हैं. ऐसे में उनके निजी जीवन में इसकी हानि होगी. इसलिए समिति ने शोधार्थियों का वीडियो कॉऩ्फ्रेसिंग के जरिए वायव लेने की सिफारिश की है. साथ ही छह महीने का अतिरिक्त समय देने की सिफारिश की है.



    बता दें कि शैक्षणिक सत्र कैसे शुरू किया जाए? कोरोना महामारी से हुए नुकसान की भरपाई कैसे करनी है? इसके लिए यूजीसी और मानव संसाधन मंत्रालय ने एक समिति गठित की थी, जिसने यह रिपोर्ट सौंपी है. समिति ने इस साल नए सत्र को सितंबर 2020 से शुरू करने समेत कई सारी सिफारिश की है.

    समिति ने यूजीसी को सौंपी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि लॉकडाउन के दौरान सभी छात्रों की उपस्थिति सत प्रतिशत दर्ज की जाए. समिति की सिफारिश को अगले सप्ताह यूजीसी स्वीकृत दे सकता है. छात्रों की उपस्थिति इसलिए दर्ज की जा रही है, ताकि सभी छात्र फाइनल परीक्षाओं में शामिल हो सकें.

    समिति ने अपनी सिफारिश में कहा है, देशभर के सभी कॉलेजों में सप्ताह में छह दिन पढ़ाई होनी चाहिए. परिस्थिति को देखते हुए देश में उच्च शिक्षा के लिए नया सत्र जुलाई के बदले सितंबर से होना चाहिए. समिति शनिवार को भी कॉलेज चालू रखने की पक्षधर है.

    ये भी पढ़ें- UGC NET 2020: यूजीसी नेट एग्जाम के बारे में जान लें ये पांच बड़ी बातें, हमेशा आएंगी काम

    Tags: 10 top universities, Corona, Exam postpone, HRD ministry, Jobs news, UGC-NET exam

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर