किसान के बेटे ने CBSE 12th में पाए 98.2%, टॉप अमेरिकी विश्वविद्यालय में लेगा दाखिला

किसान के बेटे ने CBSE 12th में पाए 98.2%, टॉप अमेरिकी विश्वविद्यालय में लेगा दाखिला
अनुराग तिवारी ने कहा कि उन्हें कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में चुना गया है. (तस्वीर-प्रतीकात्मक)

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा घोषित परीक्षा परिणाम के अनुसार, 18 साल के आर्ट्स स्ट्रीम के छात्र अनुराग तिवारी ने गणित में 95, अंग्रेजी में 97, राजनीति विज्ञान में 99 और इतिहास और अर्थशास्त्र में पूरे 100 अंक हासिल किए.

  • Share this:
नई दिल्ली. ये कहानी उत्तर प्रदेश के लखीमपुर जिले के सरसन गाँव के अनुराग तिवारी की है. अनुराग तिवारी के एक किसान के बेटे हैं. उन्होंने सीबीएसई से 12वीं में 98.2 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं. एग्जाम में पाए इन बेहतर नंबरों ने अमेरिका की Ivy League University में दाखिला लेने का उनका रास्ता खोल दिया है. उन्हें ये दाखिला फुल स्कॉलरशिप पर मिलेगा. लखीमपुर जिले के सरसन गाँव के अनुराग तिवारी ने कहा कि उन्हें कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में चुना गया है, जहाँ वह अर्थशास्त्र में उच्च अध्ययन कर सकेंगे.

12वीं में आए ऐसे मार्क्स
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा घोषित परीक्षा परिणाम के अनुसार, 18 साल के आर्ट्स स्ट्रीम के छात्र अनुराग तिवारी ने गणित में 95, अंग्रेजी में 97, राजनीति विज्ञान में 99 और इतिहास और अर्थशास्त्र में पूरे 100 अंक हासिल किए.

अनुराग के 12वीं के रिजल्ट ने उनका Cornell Dream सच कर दिया. उन्होंने Scholastic Assessment Test (SAT) में भी 1370 नंबर हासिल किए हैं. ये टेस्ट दिसंबर 2019 में US की मुख्य यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने के लिए कराया गया था.
अनुराग को दिसंबर में Vice Provost for Enrollment की ओर से Jonathan R Burdick ने जो पत्र दिया था उसमें उन्हें Cornell University में दाखिले के लिए इजाजत दी गई थी. उनका दाखिला इस पर निर्भर था कि उनके बोर्ड एग्जाम में कैसे नंबर आते हैं.





ये भी पढ़ें-
NEET पर बड़ी खबर: मेडिकल कॉलेजों में सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स के लिए 7.5 प्रतिशत कोटा मंजूर
CBSE Rechecking & Revaluation 2020: जानें किन स्टेप्स में कर सकते हैं अप्लाई

परिवार ने उठाई परेशानियां
अनुराग ने कहा, लेकिन अब तक की यात्रा आसान नहीं रही. अनुराग को शिक्षा के लिए सीतापुर जिले में एक आवासीय विद्यालय में जाना पड़ा. क्योंकि उन्होंने अपने परिवार की कमजोर वित्तीय स्थिति का हवाला दिया. जिसमें माता-पिता कमलपति तिवारी और संगीता तिवारी और तीन बड़ी बहनें शामिल थीं, उनमें से एक ने अब शादी कर ली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading