University College Exam: यूनिवर्सिटी-कॉलेज में फाइनल ईयर एग्जाम पर सुप्रीम कोर्ट ने उठाया ये कदम

University College Exam: यूनिवर्सिटी-कॉलेज में फाइनल ईयर एग्जाम पर सुप्रीम कोर्ट ने उठाया ये कदम
सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई को टाल दिया है.

यूनिवर्सिटी-कॉलेज में फाईनल ईयर की परीक्षा को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की. कोरोना वायरस के चलते कुछ राज्य परीक्षा करवाने में परेशानी महसूस कर रहे हैं. कुछ पैरेंट्स को भी दिक्कत महसूस हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 1:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यूनिवर्सिटी कॉलेजों में फाईनल ईयर या सेमेस्टर परीक्षा (University College Final Year Exam) करवाए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट आज यानी 10 अगस्त को सुनवाई के बाद मामले को 14 अगस्त तक के लिए टाल दिया है. सुनवाई के दौरान यूजीसी और सरकार का पक्ष रख रहे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता (Solicitor General Tushar Mehta) ने कहा कि परीक्षा करवाया जाना छात्रों के हित में है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि इससे संबंधित नियम बनाने का अधिकार यूजीसी को ही है, राज्य सरकार इन नियमों में कोई भी संशोधन नहीं कर सकती.

30 सितंबर तक परीक्षा करवाने की यूजीसी ने जारी की थी गाइडलाइन
इससे पहले 6 जुलाई को जारी किए गए गाइडलाइन में यूजीसी (UGC Guidelines on Final Year Exams) ने केंद्रीय एवं राज्य विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों, निजी विश्वविद्यालयों, डीम्ड विश्वविद्यालयों और अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों में विभिन्न स्नातक एवं स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष या सेमेस्टर की परीक्षाओं को अनिवार्य रूप से 30 सितंबर तक परीक्षा करवाने की बात कही थी. लेकिन 31 छात्रों ने इसका विरोध करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी थी. इस याचिका पर पहली सुनवाई 31 जुलाई को थी. इसके बाद आज यानी 10 अगस्त को सुनवाई की गई.

ये भी पढ़ेंः
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में हुए रिकॉर्ड प्लेसमेंट्स, 35 लाख सालाना तक मिले ऑफर


बड़ी बात: कॉलेज में 14 दिन क्वारंटीन रहेंगे स्टूडेंट्स, फिर देंगे एग्जाम!


31 जुलाई को हुई थी सुनवाई
इससे पहले 31 जुलाई को मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी. उस वक्त सुप्रीम कोर्ट ने यूजीसी और सरकार की ओर से पक्षा रख रहे तुषार मेहता को कहा था कि वे 7 अगस्त, 2020 तक एफिडेविट दाखिल करें. छात्रों का पक्ष रख रहे एडवोकेट सिंघवी ने कहा कि ऑनलाइन परीक्षा आयोजित करने के लिए छात्रों के पास इन्फ्रास्ट्रक्चर नहीं है. साथ ही इस कोविड-19 के समय में परीक्षाओं को फिजिकली करवाना संभव भी नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज