7 अक्टूबर से शुरू होंगे फाइनल ईयर के एग्जाम, जल्द जारी होगी डेटशीट

कोरोना वायरस के चलते परीक्षा में देरी हुई है.
कोरोना वायरस के चलते परीक्षा में देरी हुई है.

इस साल कोरोना वायरस के चलते एग्जाम व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है. स्कूल और कॉलेज समेत देशभर के शिक्षण संस्थान करीब छह महीने से बंद हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 10:17 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस से उपजे हालात के बीच लंबे इंतजार के बाद नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी यानी एनईएचयू ने फाइनल ईयर की परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान कर दिया है. यूनिवर्सिटी ने 7 से 16 अक्टूबर के बीच फाइनल ईयर की परीक्षाएं आयोजित करने का प्रस्ताव पेश किया था जिसे यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन यानी यूजीसी ने मान लिया है. अब मेघालय में 16 अक्टूबर तक एग्जाम आयोजित करा लिए जाएंगे.

अक्टूबर में ही आएंगे नतीजे
नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी अब जल्द ही एग्जाम डेटशीट जारी कर देगी. अंडरग्रेजुएट व पोस्टग्रेजुएट छात्रों के लिए ये डेटशीट आधिकारिक वेबसाइट nehu.ac.in पर उपलब्ध होगी. यूनिवर्सिटी द्वारा जारी नोटिस के अनुसार बी. टेक, बी. एड व लॉ कोर्सेज के लिए होने वाली इन परीक्षाओं का रिजल्ट भी अक्टूबर के आखिरी हफ्ते तक जारी कर दिया जाएगा.

कुल 5 दिन की परीक्षा
इस बारे में मेघालय के शिक्षा मंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा, प्रदेश में 16 अक्टूबर तक फाइनल ईयर के एग्जाम आयोजित करने के प्रस्ताव को यूजीसी ने मंजूरी दे दी है. इसके तहत नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी अब 7, 9, 12, 14 और 16 अक्टूबर को परीक्षाएं आयोजित कराएगा. नतीजा अक्टूबर महीने के अंत तक जारी कर दिया जाएगा. इससे पहले मेघालय सरकार ने सितंबर में ही यूजीसी से अपील की थी कि अंडरग्रेजुएट व पोस्टग्रेजुएट स्टूडेंट्स के लिए फाइनल ईयर की परीक्षाएं स्थगित कर दी जाएं. वो इसलिए क्योंकि कोरोना वायरस के बीच स्टूडेंट्स परीक्षा देने के लिए मानसिक रूप से तैयार नहीं थे.



ये भी पढ़ें
बड़ी बात: कोरोना वायरस के चलते 3 की जगह 2 घंटे का होगा कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
यूपी के स्कूलों पर आई बड़ी खबर, जानिए कब तक रहेंगे बंद

प्रदेश में करीब 24 हजार स्टूडेंट्स फाइनल ईयर की परीक्षा देंगे, जिनमें से 2000 से ज्यादा पोस्ट ग्रेजुएट स्टूडेंट्स हैं. मेघालय सरकार ने सभी 11 जिलों के डिप्टी कमीश्नर को स्कूल परिसर खाली करने के आदेश दिए थे. बता दें कि फिलहाल स्कूलों को क्वारंटीन फैसिलिटी के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज