बड़ी खबर : ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट के छात्र बिना परीक्षा के होंगे प्रमोट, 18 लाख स्टूडेंट्स को होगा फायदा

बड़ी खबर : ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट के छात्र बिना परीक्षा के होंगे प्रमोट, 18 लाख स्टूडेंट्स को होगा फायदा
एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी.

फिलहाल बिना परीक्षा के प्रमोट होने वाले जो छात्र परीक्षा देकर अपने अंकों में सुधार करना चाहते हैं, वो बाद में ऑफलाइन परीक्षा दे सकते हैं.

  • Share this:
​नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले भारत (India) में लगातार बढ़ रहे हैं. इस जानलेवा महामारी से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या तेजी से 4 लाख का आंकड़ा पार कर चुकी है. लगातार सामने आ रहे मामलों के बीच देशभर में परीक्षाओं को लेकर भय का माहौल बनता दिख रहा है. जहां कई राज्यों में बोर्ड एग्जाम (Board Exam) बाकी हैं तो कई जगह कॉलेज की परीक्षाएं भी आयोजित नहीं हो सकी हैं. ऐसे में जबकि परीक्षा कराना काफी जोखिम भरा काम नजर आ रहा है तो कुछ राज्यों में परीक्षाएं रद्द करने का फैसला लिया जा चुका है. इसी कड़ी में अब मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के अंडरग्रेजुएट (Under Graduate) और पोस्ट ग्रेजुएट (Post Graduate) छात्रों के लिए राहतभरी खबर आई है.

इंटरनल असेस्मेंट से होंगे नतीजे घोषित
दरअसल, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने सोमवार रात को ट्वीट कर अहम जानकारी दी है. शिवराज सिंह चौहान के अनुसार, राज्य के स्नातक प्रथम और द्वितीय वर्ष के साथ स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षार्थियों को गत वर्ष/सेमेस्टर या आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा या सेमेस्टर में प्रवेश दिया जाएगा. इतना ही नहीं, शिवराज सिंह ने अपने अन्य ट्वीट में लिखा, स्नातक अंतिम वर्ष और स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर के परीक्षार्थियों के पूर्व वर्षों/सेमेस्टर्स के सर्वाधिक अंकों के आधार पर अंतिम वर्ष/सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम घोषित किए जाएंगे.

अंक सुधारने के लिए ऑफलाइन परीक्षा
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साथ ही कहा कि बिना परीक्षा दिए प्रमोट होने वाले जो छात्र अपने अंकों में सुधार करना चाहते हैं, उनके पास बाद में ऑफलाइन परीक्षा देने का विकल्प भी है. इसके लिए बाद में तिथियों की घोषणा कर दी जाएगी. यूनिवर्सिटी एग्जाम को लेकर हुई बैठक में सीएम ने ये फैसले किए. बता दें कि प्रदेश में स्नातक एवं स्नातकोत्तर के 17 लाख 77 हजार परीक्षार्थी हैं.



ये भी पढ़ें
कभी भी जारी हो सकता है CTET का एडमिट कार्ड, अफवाहों से बचें, लें पूरी जानकारी
DU Admissions 2020: 24 घंटों में हुए 88 हज़ार से ज्यादा रजिस्ट्रेशन

स्कूल खोलने पर फैसला 31 जुलाई को
ऐसे में जबकि देशभर में ही स्कूल खोलने को लेकर चर्चाओं का दौर लगातार जारी है, मध्य प्रदेश में इस पर फैसला 31 जुलाई को किया जाएगा. प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा, बच्चों, कोविड19 से पैदा हुई विपरीत परिस्थितियों में आपके हित में कुछ फैसले किए हैं. स्कूलों को खोलने के संबंध में 31 जुलाई को समीक्षा कर निर्णय करेंगे. मैं आपके उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रयत्नशील हूं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading