UPSC Civil Services 2019: प्राइवेट नौकरी छोड़ की तैयारी, अंतिम प्रयास में अभिनव बने आईएएस

मंगलवार को आईएएस का रिजल्ट जारी किया गया है.

  • Share this:
UPSC Result 2019: हर असफलता उसकी सफलता का कारण बनी और हर असफलता से उसने अपनी कमियों को सुधार किया और बन गया वह आईएएस. यह कहानी है एक ऐसे युवा की जिसने असफलता से हार नहीं मानी और छठीं ओर आखिरी बार में उसने सफलता हासिल कर ली. मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के गरोठ कस्बे का रहने वाला अभिनव चौधरी आईएएस बन कर अब देश की सेवा करना चाहता है.

हाल ही में यूपीएससी के घोषित नतीजों में मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के गरोठ कस्बे के रहने वाले एक 29 वर्षीय युवा ने भी आईएएस बनने में सफलता हासिल की है. अभिनव चौधरी नाम का यह 29 वर्षीय युवा जिसकी प्रारंभिक शिक्षा सरस्वती शिशु मंदिर में हुई और बाद में एनआईटी भोपाल से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की परीक्षा पास की ओर 1 साल तक टाटा टेक्नॉलजी में जॉब भी किया. बाद में अभिनव ने जॉब छोड़ दिया कि मुझे आईएएस बनकर देश की सेवा करनी है. लेकिन लगातार 5 प्रयास में अभिनव असफल रहा और छठें और आखिरी प्रयास में 238 वी रैंक बनाकर वह आईएएस बन गया और अपने मकसद में कामयाब हो गया.

अभिनव चौधरी का मानना है कि देश में प्राइवेट सेक्टर को बढ़ावा देना चाहिए जिससे देश में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे अकेले सरकार कुछ भी नहीं कर सकती है इसके लिए सभी को आगे आना होगा.
आईएएस बनने का सपना पूरा कर चुके अभिनव चौधरी का मानना है कि हर असफलता एक चुनौती है इसे स्वीकार करो क्या कमी रह गई है उसमें सुधार करो, और इस बार उसे सफलता मिल गई. इसके लिए अभिनव ने अपने माता-पिता को धन्यवाद दिया कि उन्होंने हर बार उसे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया. अभिनव को जब यह सफलता मिली तो परिवार में खुशी का माहौल छा गया. अभिनव का सभी ने अभिनव को सभी ने बधाई दी और उसके उज्जवल भविष्य की कामना की.

क्षेत्र के भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता ने भी अभिनव को अपना आशीर्वाद दिया और कहा कि क्षेत्र में इस तरह से युवा जब आईएएस बनकर निकलेंगे तो क्षेत्र का नाम भी गौरवान्वित होगा. Sign up-संघर्ष करके अपना मुकाम हासिल कर चुके अभिनव के पिता नगरपरिषद के अध्यक्ष भी रहे है ओर कपड़ा व्यवसाई भी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.