बड़ी खबर : पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरियों पर शिक्षा मंत्री निशंक का खुलासा, कहा-मैंने सभी कंपनियों से...

बड़ी खबर : पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरियों पर शिक्षा मंत्री निशंक का खुलासा, कहा-मैंने सभी कंपनियों से...
एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने वेबिनार में कई अहम जानकारियां दीं.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते परीक्षा कार्यक्रम प्रभावित हुआ है और इसी वजह से अब ऑनलाइन स्टडी (Online Study) पर जोर दिया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 9:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत की शिक्षा प्रणाली में शायद ही ऐसा कभी देखने को मिला जो नजारा कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते दिखाई दे रहा है. कई राज्यों में परीक्षाएं आयोजित की जा चुकी हैं और सिर्फ नतीजों का इंतजार किया जा रहा है तो कई जगह आधी परीक्षाएं हो गईं हैं और छात्र बाकी परीक्षाओं के आयोजित होने की राह देख रहे हैं. देश में लॉकडाउन (Lockdown) है और छात्र अपने-अपने घरों में कैद होकर शिक्षा प्रणाली के वापस पटरी पर लौटने की उम्मीद कर रहे हैं. एक तरफ स्टूडेंट्स हैं जो उम्मीद लगाए बैठे हैं तो दूसरी तरफ सरकार है जो अपनी ओर से हरसंभव प्रयासों में जुटी है. सरकार की तरफ से किए जा रहे सभी प्रयासों और छात्रों के सवालों पर मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने खुलकर अपने विचार जाहिर किए.

सभी निजी कंपनियों से की अपील
न्यूज18 ​को दिए इंटरव्यू में रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal Nishank) ने छात्रों के लिए पढ़ाई सहज बनाने के लिए सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों के बारे में तो जानकारी दी ही, इसके अलावा नौकरियों को लेकर भी महत्वपूर्ण बात बताई. निशंक ने कहा, मैंने सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय निजी कंपनियों से अपील की है कि वो अपने जॉब आफर्स को वापस न लें.

स्टूडेंट्स को आफर की जाने वाली जॉब वापस न ली जाए
दरअसल, रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal Nishank) से पूछा गया था कि लॉकडाउन और आर्थिक मंदी नौकरियों पर असर डाल सकती है खासतौर पर जब छात्र पढ़ाई पूरी करने के बाद जॉब तलाशने की ओर कदम बढ़ाएंगे. इस पर निशंक ने कहा, सरकार कोविड19 के प्रभाव को कम से कम करने का प्रयास कर रही है. मैंने नौकरी देने वाली संस्थाओं से आग्रह किया है कि वो अपनी रणनीति मौजूदा हालात को ध्यान में रखकर बनाएं और स्टूडेंट्स को आफर्स की जाने वाली जॉब्स को वापस न लें.



प्लेसमेंट मामलों के लिए टास्क फोर्स
इतना ही नहीं, रमेश पोखरियाल निशंक ने साथ ही बताया, मैंने सभी 23 आईआईटी के डायरेक्टर्स को भी निर्देश दिए हैं कि मौजूदा हालात से कैंपस प्लेसमेंट पर असर नहीं पड़ना चाहिए. सभी आईआईटी प्लेसमेंट समिति इस पर काम करेगी. इसके अलावा प्लेसमेंट और इंटर्नशिप के मामलों को देखने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय में एक टास्क फोर्स भी गठित की गई है.

ई-लर्निंग को बढ़ावा
इंटरव्यू में रमेश पोखरियाल निशंक ने बताया कि सरकार डिजिटल और नॉन डिजिटल माध्यम से पाठ्यक्रम मुहैया कराए जा रहे हैं. सरकार ने ई-लर्निंग को बढ़ावा देने के लिए दीक्षा जैसे पोर्टल की शुरुआत की है. इसके अलावा स्वयं, ई-पाठशाला के जरिये भी इसे बढ़ावा दिया जा रहा है. छात्रों में भी आनलाइन स्टडी को लेकर स्वीकार्यता पहले से काफी बढ़ी है.

CBSE Board Exam: परीक्षा से लेकर नतीजे तक की डेट...ये दस बातें जरूरी है जानना

UP Board Result: 20 से 25 मई के बीच आ सकता है रिजल्ट,4 मई से कॉपियों की चेकिंग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading