कॉर्पोरेट की नौकरी छोड़ इस महिला ने शुरू किया बिजनेस, कमा रही हैं करोड़ों

News18Hindi
Updated: July 10, 2019, 4:55 AM IST
कॉर्पोरेट की नौकरी छोड़ इस महिला ने शुरू किया बिजनेस, कमा रही हैं करोड़ों
मोनिका चौधरी (HER STORY )

मोनिका ने आईबीएम (IBM) और जीई (GE) जैसी कंपनियों से नाता तोड़कर दिल की सुनी और एक ऐसी कंपनी की शुरुआत की, जिससे आज वह करोड़ों की कमाई कर रही हैं.

  • Share this:
देश की दिग्‍गज आईटी कंपनी में शुमार आईबीएम जैसी कंपनी में जॉब करना हर युवा का ख्‍वाब होता है. हर युवा चाहता है कि वह ऐसी कंपनी में काम करे, लेकिन कुछ ऐसे युवा भी हैं, जो ऐसी शानदार नौकरी छोड़कर कुछ अलग करने का सपना देखते हैं. वे न केवल सपना देखते हैं, बल्‍कि उसे पूरा भी करते हैं. ऐसी ही एक युवा हैं मोनिका चौधरी. मोनिका ने आईबीएम (IBM) और जीई (GE) जैसी कंपनियों से नाता तोड़कर दिल की सुनी और एक ऐसी कंपनी की शुरुआत की, जो बच्‍चों के लिए पारंंपरिक ड्रेसेज तैयार करती है. इस कंपनी का का नाम बॉउ बी है. मोनिका ने तीन लाख रुपये से इस कंपनी की शुरुआत की थी और आज वह करोड़ों की कमाई कर रही हैं.

अपने स्‍टार्ट-अप बॉउ बी के बारे में मोनिका बताती हैं कि हम एक कड़ी के रूप में काम करते हैं. हम ग्राहकों की जरूरतों को समझकर उनसे सीधे बात करते हैं और उनकी पसंद की ड्रेसेज उन तक पहुंचाते हैं. हमारे बीच में कोई मीडिएटर नहीं है. हमारी इस कोशिश से ग्राहकों को भी फायदा होता है. मोनिका ने Her Story से बात करते हुए बताया कि हमारा टारगेट ऑडिंयस 12 साल तक के लड़के और लड़कियां हैं. हम हर अवसर के लिए उनकी पसंद के आधार पर यूनिक कपड़े डिजाइन करते हैं.

बेटी से मिला आइडिया

मोनिका को इस कंपनी की शुरुआत करने का आइडिया तब आया, जब वह जॉब में थीं. जॉब करने के दौरान वह अपनी बेटी के लिए ड्रेसेज तैयार करती थीं, जो उनकी बेटी को बहुत पसंद आती थी. यहीं से उन्‍होंने सोचा कि क्‍यों न वे अपनी क्रिएटिविटी को बिजनेस के तौर पर शुरू करें.

एथनिक और इंडो वेर्स्‍टन

बॉउ बी केवल एथनिक कपड़े ही डिजाइन ही नहीं करती, बल्‍कि इंडोवेर्स्‍टन कपड़े भी डिजाइन करती है. मोनिका चौधरी बताती हैं कि इंडो-वेस्टर्न रेंज पेप्लम-धोती, टॉप-पलाज़ोस और कैज़ुअल शर्ट बेस्ट-सेलर ड्रेसेज हैं. ये ड्रेसज इंडियन और वेर्स्‍टन ड्रेसेज का बेस्‍ट कलेक्‍शन हैं.

ऐसे हुई शुरुआत 
Loading...

मोनिका बताती हैं, पहले हमनें सिर्फ 20 ड्रेसेज तैयार कीं और उन्‍हें बच्‍चों की ड्रेसेज बेचने वाले ई-कंपनी Hopscotch पर सेल किया. वहां ड्रेसेज को काफी पसंद किया गया. इसके बाद मैंने कुछ कपड़े गुरुग्राम की एक मार्केट में भी पेश किए. इससे हमें कस्‍टमर का फीडबैक मिला और हमें उन्‍हें समझने में मदद मिली. इसके बाद धीरे-धीरे हमारे डिजाइन लोगों को पसंद आते रहे और हमारे आर्डर बढ़ते रहे.

यह भी पढ़ें:  

UPSC Exam पास करने वाले दिव्‍यांग प्रतियोगियों से मिलिए

success story: IPS बनने से पहले 35 सरकारी एग्जाम में हुआ फेल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 10, 2019, 4:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...