लाइव टीवी
Elec-widget

गुवाहाटी विश्वविद्यालय में दाखिला लेने वाले 74000 स्टूडेंट्स का करियर खतरे में, पढ़ें डिटेल

News18Hindi
Updated: December 1, 2019, 5:23 PM IST
गुवाहाटी विश्वविद्यालय में दाखिला लेने वाले 74000 स्टूडेंट्स का करियर खतरे में, पढ़ें डिटेल
गुवाहाटी विश्वविद्यालय ने 21 नॉन-अप्रूव्ड कोर्स शुरू किए.

सबसे पुराने विश्वविद्यालय ने यूजीसी को कई गलत हलफनामे दिए थे जबकि उसने आयोग को आश्वासन दिया था कि वह बगैर स्वीकृति के कोई नया पाठ्यक्रम नहीं शुरू करेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2019, 5:23 PM IST
  • Share this:
गुवाहाटी. भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में कहा गया है कि गुवाहाटी विश्वविद्यालय ने करीब 74,000 छात्रों के करियर को खतरे में डाल दिया है. अपने दूरस्थ शिक्षा केंद्र के माध्यम से 21 गैर स्वीकृत पाठ्यक्रमों के लिए सात साल तक छात्रों से 39 करोड़ रुपये एकत्र किए थे.

कैग की रिपोर्ट को असम विधानसभा में जारी शीतकालीन सत्र के दौरान पेश किया गया था. इसमें कहा गया है कि पूर्वोत्तर के सबसे पुराने विश्वविद्यालय ने यूजीसी को कई गलत हलफनामे दिए थे जबकि उसने आयोग को आश्वासन दिया था कि वह बगैर स्वीकृति के कोई नया पाठ्यक्रम नहीं शुरू करेगा.

कैग ने कहा कि इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने दूरस्थ शिक्षा परिषद (डीईसी) की स्वीकृति के साथ अगस्त 2010 में 2010-11 से तीन साल के आठ पाठ्यक्रमों के लिए गुवाहाटी विश्वविद्यालय (जीयू) के दूरस्थ एवं मुक्त शिक्षा संस्थान (आईडीओएल) को मान्यता दी थी.

इसके अनुसार यह मान्यता यूजीसी, डीईसी और अखिल भारतीय प्रौद्योगिकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) की संयुक्त समिति की सिफारिशों के आधार पर मिली थी.

कैग ने कहा, ऑडिट में यह पता चला कि आईडीओएल, जीयू ने 2010 से 2016-17 के दौरान ओडीएल (मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा) के तहत स्वीकृत आठ पाठ्यक्रमों के अलावा 21 गैर स्वीकृत पाठ्यक्रमों की पेशकश की थी. (इनपुट-भाषा)

ये भी पढ़ें-
अस्पताल में डॉक्टर एक हाथ पर लगा रहे थे इंजेक्शन और दूसरे हाथ में किताब थी
Loading...

Sarkari Naukari: इस सरकारी विभाग में है नौकरी का मौका, 1.14 लाख होगी सैलरी
CBSE में कई पदों के लिए 357 वैकेंसी, आखिरी तारीख 16 दिसंबर, जानें डिटेल
नीट 2020: सुरक्षा के इंतज़ाम पुख़्ता, फर्जीवाड़े से डिग्री हासिल करना नामुमकिन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 1, 2019, 5:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...