पढ़ना जरूरी है : बैडमिंटन चैंपियन रहे डीएम ने छात्रों को दिए पढ़ाई के टिप्स, जानें सफलता का ये खास मंत्र

पढ़ना जरूरी है : बैडमिंटन चैंपियन रहे डीएम ने छात्रों को दिए पढ़ाई के टिप्स, जानें सफलता का ये खास मंत्र
डीएम सुहास एल. वाई.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते छात्र घर पर ही पढ़ाई कर रहे हैं और इसके लिए ऑनलाइन क्लास (Online Class) अहम भूमिका निभा रहीं हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 8:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सफलता संघर्ष के पथ पर चलकर हासिल की जाती है. भला गौतमबुद्ध नगर (Gautam Buddha Nagar) के डिस्ट्रिक्ट ​मजिस्ट्रेट (DM) सुहास एलवाई (Suhas LY) से बेहतर इस बात को कौन जान सकेगा. चाहे बैडमिंटन का कोर्ट हो या कुंभ का क्राउड मैनेजमेंट. या फिर कोरोना के खिलाफ जंग में मोर्चे से अगुआई, चुनौतियों पर पार पाने का जुनून ही है कि सुहास कभी संघर्ष के पथ पर चलने से घबराते नहीं हैं. उनसे हर उस छात्र को प्रेरणा लेनी चाहिए जो अपने सपनों को हासिल करने की ओर बढ़ना चाहता है. सुहास खुद अपने अनुभव और जिंदगी के सबक छात्रों के बीच बांटने से कभी पीछे नहीं हटते.

कोरोना के बीच घर पर ऐसे करें पढ़ाई
पूरी दुनिया में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर है और भारत में भी इस जानलेवा महामारी ने अब तक 900 से ज्यादा लोगों की जान ले ली है. ऐसे में शिक्षा विभाग पर भी इसका गहरा असर पड़ा है. कुछ परीक्षाएं आधी हुईं हैं तो कुछ शुरू ही नहीं हो पाईं. यही वजह है कि बच्चे घर पर रहकर पढ़ाई का सिलसिला जारी रखे हुए हैं. हालांकि अब ऐसे बच्चों के लिए डीएम सुहास ने साइंस के कुछ बेहद महत्वपूर्ण टिप्स दिए हैं.





डीएम सुहास ने दिए ये टिप्स
गौतमबुद्ध नगर (Gautam Buddha Nagar)  के डीएम (DM) सुहास एलवाई (Suhas LY) ने ट्वीट कर छात्रों को घर पर क्वालिटी टाइम बिताने के टिप्स दिए. उन्होंने छात्रों को संबोधित करते हुए लिखा,
डीयर स्टूडेंट्स, घर पर क्वालिटी टाइम बिताने के लिए कुछ टिप्स.
पहला, साइंस के शानदार फैक्ट पढ़िए. मेरी पसंदीदा साइंस बुक एस्ट्रोफिजिक्स है जो नील टाइसन ने लिखी है.
दूसरा, साइंस टीवी शो कोसमोस देखिए.
तीसरा, अलकेमिस्ट जैसी प्रेरणादायी किताब पढ़िए. साइंस संगठित ज्ञान है, इसे ग्रहण करने की कोशिश कीजिए.

सुहास को जानें
कंप्यूटर साइंस में बीटेक की डिग्री लेने वाले सुहास (Suhas LY) मूल रूप से कर्नाटक के शिमोगा जिले के रहने वाले हैं. वर्ष 2007 बैच के आईएएस अफसर सुहास एलवाई ने काफी दिनों तक क्रिकेट खेलने के बाद आईएएस अकादमी से ही बैडमिंटन खेलना शुरू किया था. आईएएस बनने के बाद भी उन्होंने इस शौक को फिटनेस बरकरार रखने के लिए जारी रखा. वर्ष 2016 में बीजिंग एशियन चैंपियनशिप में पहली बार एलएल-4 (लोअर स्टैंडिंग) में हिस्सा लिया और स्वर्ण पर कब्जा जमाया था. वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर दो के पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी सुहास को साल 2016 में राज्यपाल ने उत्तर प्रदेश के सबसे बेहतरीन सिविल सर्वेंट के खिताब से नवाजा था.

बड़ी बात : तीन की जगह दो घंटे होगा परीक्षा का समय! यूजीसी ने दिया अहम सुझाव

विश्वविद्यालयों में एक अगस्त से शुरू होगा नया शैक्षणिक सत्र 2020-21: UGC
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज