इस एक काम के लिए लड़कों से ज्‍यादा लोन ले रही लड़कियां

भारतीय समाज में माना जाता है कि पुरुष ज्यादा लोन लेते होंगे लेकिन हकीकत ये है कि बैंकों द्वारा अदा किए गए एजुकेशन लोन में छात्राओं की बीस फीसदी ज्‍यादा है.

News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 5:19 PM IST
इस एक काम के लिए लड़कों से ज्‍यादा लोन ले रही लड़कियां
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर
News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 5:19 PM IST
आज महिलाएं हर क्षेत्र में मजबूती से अपनी उपस्‍थिति दर्ज करा रही हैं. वे हर क्षेत्र में खुद को साबित कर रही हैं. इसकी ताजा तस्‍दीक हाल ही में हुए एक सर्वे से भी मिल रही है. दरअसल कंज्यूमर लेंडिंग फिनटेक कंपनी जेस्टमनी की सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक अब लड़कियां हायर एजुकेशन लेने के मामले में भी आगे निकल गई हैं. सर्वे के अनुसार हायर एजुकेशन के लिए लड़कों से ज्‍यादा लड़कियां लोन ले रही हैं. वे इस मामले में पुरुषों से आगे निकल चुकी हैं.

योरस्‍टोरी में छपी जेस्टमनी की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय महिलाओं को लेकर ये सच सामने आया है. दरअसल अक्‍सर ऐसा माना जाता है कि भारतीय समाज में तो पुरुष ज्यादा लोन लेते होंगे लेकिन हकीकत तो कुछ और ही कहती है. बैंकों द्वारा अदा किए गए इस किस्म के (एजुकेशन) ऋण में छात्राओं को बीस फीसदी ज्यादा लोन दिया गया है, जबकि पुरुष अभ्यर्थियों की हिस्सेदारी मात्र छह प्रतिशत रही है. वहीं छात्रों की तुलना में छात्राओं के लोन की औसत रकम भी करीब 35 फीसदी ज्यादा रह रही है. इस साल 2019 में अब तक महिलाओं ने लोन के बदले ईएमआई के रूप में औसतन करीब 20,000 रुपये, तो पुरुषों ने 15,000 रुपये का भुगतान किया है.



लोन का बढ़ रहा है ट्रेंड बढ़

भारत में ईएमआई पर लोन लेने का ट्रेंड भी बढ़ता जा रहा है. जेस्टमनी का ही सर्वे बताता है कि टियर-3 शहरों में बीते एक साल में ईएमआई पर लोन लेने के चलन में एक हजार प्रतिशत का इजाफा हुआ है. इस ग्रोथ ने टियर-1 और टियर-2 श्रेणी के महानगरों की संयुक्त ग्रोथ को पीछे छोड़ दिया है.

महिलाओं के लिए ये भी हैं योजनाएं

भारतीय अर्थव्यवस्था में संगठित क्षेत्र में कारोबार कर रही महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए मुद्रा स्कीम चल रही है. इसके अंतर्गत बिना गारंटर के 50 हजार रुपए से 10 लाख रुपए तक के लोन का लाभ किसी भी बैंक से लिया जा सकता है.

जामिया की इस छात्रा ने बनाया अनोखा स्टार्टअप
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...