coronavirus: दो लाख आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को जच्चा-बच्चा की देखरेख के लिए दी जा रही ऑनलाइन ट्रेनिंग

महिला एंव बाल विकास मंत्रालय आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को ऑनलाइन ट्रेंनिंग दे रहा है.

सरकार आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ ऑनलाइन संवाद सत्र आयोजित कर रही है. अब तक दो लाख से अधिक आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को जच्चा बच्चा की देखभाल के लिए ट्रेंड किया गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में लागू 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान महिला और बाल विकास मंत्रालय ने गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं की सुरक्षा के लिए बड़ा कदम उठाया है. मंत्रालय इसके लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ ऑनलाइन संवाद सत्र आयोजित कर रहा है. मंत्रालय ने इन संवाद सत्रों में देश की दो लाख से अधिक आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से बातचीत की है.

    जानकारी के अनुसार महिला और बाल विकास मंत्रालय ने डिजिटल मंच का इस्तेमाल करके उनके साथ जागरूकता सत्रों की एक श्रृंखला शुरू की है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि सबसे पहली कतार में रहने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को कोविड-19 से खुद को सुरक्षित रखने के उपायों के बारे में सही जानकारी मिल सके.



    सूत्रों ने बताया कि मामले पर सरकार ने स्वास्थ्य विशेषज्ञों के संपर्क में भी है. एक अन्य सूत्र ने बताया कि 15 अप्रैल के बाद भी गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं की पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विशेष ध्यान दिया जा रहा है.

    महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने कोविड-19 पर एक डिजिटल संवाद सत्र का आयोजन किया, जिसमें महिलाओं और बच्चों पर पड़ने वाले कोरोना वायरस के मनोवैज्ञानिक प्रभाव पर चर्चा की गई. राष्ट्रीय महिला आयोग के सूत्रों ने बताया कि घरेलू हिंसा पीड़ितों की मदद के लिए आयोग ने 15 से अधिक गैर-सरकारी संगठनों की एक टास्क फोर्स बनाने का फैसला किया है ताकि महिलाओं की जरूरत के हिसाब से मदद की जा सके.

    ये भी पढ़ें- 14 अप्रैल के बाद फिर से खुलेंगे स्कूल और कॉलेज : मानव संसाधन विकास मंत्री

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.