JEE-NEET परीक्षाओं के लिए जारी हुए दिशानिर्देश, कैंडीडेट्स को करना होगा ये काम

JEE-NEET परीक्षाओं के लिए जारी हुए दिशानिर्देश, कैंडीडेट्स को करना होगा ये काम
जेईई-नीट परीक्षा के दौरान इन नियमों का पालन करना होगा.

हर उम्मीदवार के एडमिट कार्ड पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए निर्देश दिए जाएंगे. उम्मीदवारों को प्रवेश के समय थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ेगा. इसके अलावा और भी तमाम दिशा निर्देश दिए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 4:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. JEE/NEET परीक्षाओं को कराने को लेकर मचे घमासान के बीच नेशनल टेस्टिंग एजेंसी, एनटीए (National Testing Agency, NTA) ने इन परीक्षाओं के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इसमें छात्रों को परीक्षा केन्द्र पर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करने के लिए कई बातें कही गई हैं.

छात्रों को परीक्षा केन्द्र पर पालन करने होंगे सोशल डिस्टेंसिंग के ये नियम
हर उम्मीदवार के एडमिट कार्ड पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए निर्देश दिए जाएंगे. उम्मीदवारों को प्रवेश के समय थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ेगा. तापमान <37.4 ° C / 99.4 ° F होने पर ही छात्रों को रजिस्ट्रेशन से आगे बढ़ने की अनुमति दी जाएगी. अगर तापमान सामान्य से ज्यादा हुआ तो ऐसे उम्मीदवारों को एक अलग कमरे में परीक्षा देनी होगी.

मास्क ,दस्ताने, पानी की बोतल खुद लानी होगी
हर छात्र को यह घोषित करना होगा कि वे COVID-19 से पीड़ित नहीं हैं या हाल में ऐसे किसी  मरीज के संपर्क में नहीं आए हैं. प्रत्येक छात्र को मास्क ,दस्ताने, पानी की बोतल और हैंड सैनिटाइज़र लेकर आना होगा. परीक्षा केंद्र पर कोई पानी निकालने की मशीन नहीं होगी. छात्रों के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी रहेगी.



केंद्र के स्थान के लिए एक हाइपरलिंक दिया जाएगा. उम्मीदवार को इस लिंक पर क्लिक करके केंद्र के स्थान को पहले सत्यापित करना होगा. सभी छात्रों को रिपोर्टिंग टाइम स्लॉट दिया जाएगा. टाइम इस तरह रखा जाएगा कि एक सामान छात्र हर स्लॉट में हों.

छात्र अभी भी हैं नाखुश
हमने इस परीक्षा में बैठ रहे देश भर के छात्रों से इस बारे में बात की. दिल्ली के माउंट सेंट मैरी स्कूल (Mount St. Mary's School) की छात्रा नव्या गुप्ता इस बार NEET की परीक्षा में बैठने जा रही हैं . उनका कहना है कि '13 सितंबर को NEET का पेपर नहीं होना चाहिए. यह सभी छात्रों के लिए एक हेल्थ रिस्क है. हमें नहीं पता कि हम किस छात्र या स्टाफ के संपर्क में आ जाएं जो एसिंप्टोमेटिक हो मगर संक्रमण कर सकता हो. क्या गारंटी है कि हमें वहां कोविड-19 का संक्रमण नहीं होगा .

ये भी पढ़ेंः
DTE, Maharashtra Admission: रजिस्ट्रेशन का आज है अंतिम मौका
आज जारी होगा बिहार STET का एडमिट कार्ड, ऐसे करें डाउनलोड


इसी स्कूल की जूही सिंह का कहना है- स्कूल के लास्ट पेपर के बाद लॉकडॉउन लग गया.मैंने सोचा था कि कोचिंग ज्वाइन करूंगी जो नहीं हो पाया.इन सब को देखते हुएहमें थोड़ा और टाइम मिलना चाहिए. प्रयागराज के सीपी शर्मा क्लासेस में NEET और JEE की तैयारी कर रहे छात्रों की इसस बारे में मिलीजुली राय है. छात्रा चार्मी मिश्रा का कहना है - परीक्षा समय से होने चाहिए. इससे हमारा तनाव कम होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज