होम /न्यूज /करियर /Happy Teacher's Day 2020: जानें भारत के उन टीचर्स के बारे में जो टॉप लीडर्स भी रहे...

Happy Teacher's Day 2020: जानें भारत के उन टीचर्स के बारे में जो टॉप लीडर्स भी रहे...

जानिए उन टीचर्स के बारे में जो लीडर्स भी रहे.

जानिए उन टीचर्स के बारे में जो लीडर्स भी रहे.

टीचर्स डे भारत के पहले उप राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है. हमारे जीवन को सही ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. टीचर्स डे सभी टीचर्स के प्रति श्रद्धा भाव से मनाया जाता है जिन्होंने हमें कुछ महत्त्वपूर्ण पाठ पढ़ाया. भारत में टीचर्स डे 5 सितंबर को मनाया जाता है. टीचर्स डे भारत के पहले उप राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है. हमारे जीवन को सही दिशा देने में टीचर्स का काफी योगदान होता है और टीचर्स डे हमें उनके प्रति शुक्रिया अदा करने का मौका देता है. ऐसे में हम आपको कुछ उन शिक्षकों के बारे में बताते हैं जो कि काफी अच्छे नेता भी रहे थे.

    1. डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन
    इस सूची में सबसे ऊपर तो डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन का आता है. इनके छात्र इनको काफी पसंद करते थे. इसका सबसे बड़ा उदारण ये है कि जब वे कलकत्ता यूनिवर्सिटी में ज्वाइन करने के लिए जा रहे थे तो उनके रेलवे स्टेशन तक जाने के लिए उनके लिए जो बग्गी मंगाई गई थी उसे फूलों से सजाया गया था और घोड़े की जगह उसे उनके छात्र खींचकर ले गए थे. जब वे राज्य सभा की गतिविथियों में के दौरान सभापति के रूप में कार्यरत होते थे तो सांसदों को शांत कराने के लिए संस्कृत के श्लोक बोला करते थे. उन्हें काफी अवॉर्ड भी मिले थे. साल 1954 में उन्हें भारत रत्न दिया गया था.

    2. स्वामी विवेकानंद
    स्वामी विवेकानंद की बुद्धिमत्ता और समाज के प्रति उनके योगदान के बारे में कौन नहीं जानता है. उनका जन्म साल 1863 मे हुआ था. उन्होंने पूरी दुनिया को भारतीय संस्कृति का ज्ञान कराया. 1893 में शिकागो में दिए गए उनके स्पीच को आज भी सराहा जाता है. उन्होंने वेदांत की शिक्षा देने के लिए राम कृष्ण मिशन की स्थापना की. वे गुरुकुल प्रणाली के काफी बड़े समर्थक थे. गुरुकुल शिक्षा में स्टूडेंट और टीचर एक साथ रहते हैं.

    3. राजा राम मोहान राय
    राजा राम मोहन राय काफी बड़े सामाजिक कार्यकर्ता थे. उन्होंने समाज में व्याप्त तमाम कुरीतियों जैसे सती प्रथा, दहेज प्रथा इत्यादि के खिलाफ आवाज़ उठाई. साल 1828 में उन्होंने ब्रह्मो समाज की स्थापना की.

    4. डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम
    भारत के मिसाइल मैन और भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम हमेशा चाहते थे कि वे एक बेहतर टीचर के रूप में जाने जाएं. बच्चों से उन्हें खास प्रेम था. पढ़ाना उनका शौक था और उनका निधन भी शिलॉन्ग के आईआईएम में पढ़ाते हुए ही हुई. वे बच्चों से काफी तेजी से जुड़ जाते थे. डॉ. कलाम शुरू से ही काफी मेहनती थे. उन्होंने तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज से फिजिक्स की पढ़ाई की और मद्रास इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पढ़ाई की. कलाम ने साइंस, आध्यात्मिकता और मोटीवेशनल किताबें लिखीं.

    Tags: Dr. A P J Abdul Kalam, Teachers day

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें