कोरोना वायरस के बीच खोले जाएंगे 1 हजार स्कूल, राज्य सरकार का बड़ा फैसला

कोरोना वायरस के बीच खोले जाएंगे 1 हजार स्कूल, राज्य सरकार का बड़ा फैसला
हरियाणा सरकार ने प्लेस्कूल खोलने का फैसला किया है.

जानलेवा महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से देशभर में सभी तरह के शिक्षण संस्थान पिछले चार महीनों से बंद हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 17, 2020, 12:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से स्कूल और कॉलेज समेत देशभर के शिक्षण संस्थानों को 16 मार्च से ही बंद कर दिया गया था. केंद्र सरकार ने अभी तक शिक्षण संस्थानों को खोलने की अनुमति नहीं दी है. हालांकि इस बीच हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने स्कूलों को लेकर एक अहम फैसला किया है. दरअसल, राज्य सरकार प्रदेश में एक हजार नए प्लेवे स्कूल खोलने की तैयारी में है. हरियाणा सरकार के इस कदम का मकसद तीन से छह साल के बच्चों को बेहतर शिक्षा मुहैया कराना है.

बच्चे के शुरुआती 1000 दिन स्कूलिंग और लर्निंग के लिए बेहद अहम
टाइम्सनाउ की रिपोर्ट के अनुसार, एक हजार प्ले स्कूल खोलने की घोषणा इस साल के बजट में की गई थी, जिस पर बुधवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अगुआई में हुई बैठक में औपचारिक फैसला लिया गया. इस बैठक में शिक्षा मंत्री कुंवर पाल भी मौजूद थे. रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री ने कहा, एनुअल स्टेटस आफ एजुकेशन रिपोर्ट 2019 के अनुसार, बच्चे के शुरुआती 1000 दिन उसकी स्कूलिंग और लर्निंग के लिहाज से बेहद अहम होते हैं. इस बात को समझते हुए जल्द ही राज्य में 1000 स्मार्ट प्लेवे स्कूल खोले जाएंगे.

ये भी पढ़ें-
मिसाल: 50 साल की उम्र में दादी ने पास की 12वीं बोर्ड की परीक्षा, जानिए दिलचस्प कहानी


CBSE Rechecking & Revaluation 2020: जानें किन स्टेप्स में कर सकते हैं अप्लाई

सीएम ने दिए निर्देश
इतना ही नहीं, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अधिकारियों को आंगनवाड़ी केंद्रों को अपग्रेड करने के भी निर्देश दिए. फिलहाल ये आंगनवाड़ी केंद्र प्राइमरी स्कूलों के प्रांगण में चलाए जा रहे हैं. सीएम ने अधिकारियों से इन्हें स्मार्ट लर्निंग प्लेवेज में बदलने को कहा है. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने इन स्कूलों के करिकुलम को एनिमेशन और आडियो विजुअल माध्यम से डिजाइन करने के भी निर्देश दिए हैं ताकि बच्चों की सीखने की क्षमता को विकसित किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज