होम /न्यूज /करियर /

Career Tips: बागवानी का है शौक तो इसी में बना सकते हैं करियर, जानिए कहां और कैसे लगेगी नौकरी

Career Tips: बागवानी का है शौक तो इसी में बना सकते हैं करियर, जानिए कहां और कैसे लगेगी नौकरी

Career Tips: बागवानी में बन सकता है बेहतर करियर

Career Tips: बागवानी में बन सकता है बेहतर करियर

Career Tips: बागवानी में अच्‍छी गुणवत्‍ता के बीज, फल और फूल का उत्‍पादन किया जाता है. टेक्‍नोलॉजी ने ग्रीन हाउस, इन हाउस रिसर्च और ऑफ सीजन खेती के साथ बागवानी के क्षेत्र में कई नई संभावनाएं विकसित कर दी हैं.

    हाइलाइट्स

    बागवानी में बना सकते हैं अच्‍छा भविष्‍य
    एग्रीकल्‍चर की एक विशेष शाखा है हॉर्टिकल्‍चर
    इसमें फल, फूल और औषधीय पौधों की होती है खेती

    नई दिल्‍ली: Career Tips: ग्‍लोबलाइजेशन के इस दौर में बागवानी उत्‍पादों का निर्यात खूब बढ़ा दिया है. पारंपरिक खेती की तुलना में बागवानी तुलनात्‍मक रूप से कहीं अधिक फायदे का सौदा है. बागवानी में अच्‍छी गुणवत्‍ता के बीज, फल और फूल का उत्‍पादन किया जाता है. टेक्‍नोलॉजी ने ग्रीन हाउस, इन हाउस रिसर्च और ऑफ सीजन खेती के साथ बागवानी के क्षेत्र में कई नई संभावनाएं विकसित कर दी हैं.

    बागवानी कला, विज्ञान और तकनीक का एक मिश्रण है. इसमें खाद्य और अखाद्य दोनों तरह की फसलों की पढ़ाई की जाती है. बागवानी में पौधों के उत्‍पादन से लेकर मिट्टी की तैयारी, पौधे की प्रजनन और अनुवांशिकी, जैव रसायन और पादप क्रिया आदि का अध्‍ययन किया जाता है.

    अगर प्रकृति से प्रेम करते हैं तो ऐसे स्‍टूडेंट्स हॉर्टिकल्‍चर में करियर बना सकते हैं. साइंस स्‍ट्रीम में 12वीं करने वाले छात्र हॉर्टिकल्‍चर में ग्रेजुएशन कर सकते हैं. बीएससी एग्रीकल्‍चर में डिग्री हासिल करने के बाद इसके आगे की पढ़ाई की जा सकती है. विभिन्‍न कृषि विश्‍वविद्यालयों में बागवानी की पढ़ाई होती है. कई यूनिवर्सिटीज हॉर्टिकल्‍चर में चार साल का बीटेक प्रोग्राम भी चलाती हैं.



    जरूरी कौशल

    सबसे पहला कौशल है प्रकृति से प्रेम की भावना. लंबे समय तक धैर्य के साथ काम करने की आदत. इसके अलावा पौधों में रोग के शुरुआती लक्षणों की पहचान करने के लिए व्‍यावहारि‍क क्षमता और अवलोकन की अच्‍छी शक्तियां होना जरूरी है.

    ये भी पढ़ें…MPPEB में 2500 से अधिक पदों पर निकली वैकेंसी, जल्द करें आवेदन

    बनेगा उज्‍जवल भविष्‍य
    पढ़ाई पूरी करने के बाद विभिन्‍न सरकारी संस्‍थाओं जैसे भारतीय कृषि अनुसंधान, आईएआरआई, सीएसआईआर, एनबीआरआई,अपेडा आदि में हॉर्टिकल्‍चरिस्‍ट के रूप में काम कर सकते हैं. नेट या पीएचडी करने वाले छात्र कृषि कॉलेज या वि‍श्‍वविद्यालय में पढ़ाने का काम भी कर सकते हैं. रिसर्च के क्षेत्र में भी अपार संभावानाएं हैं. विभिन्‍न नगर नि‍गमों में बागवानी निरीक्षक, हॉर्टिकल्‍चर स्‍पेशलिस्‍ट, लैंडस्‍कैपिंग आदि के तौर पर भी नौकरी की जा सकती है.

    ये भी पढ़ें…CCRAS में पाना चाहते हैं नौकरी, तो होनी चाहिए ये डिग्री

    बागवानी के लिए प्रमुख संस्‍थान
    – श्रीराम कॉलेज ऑफ एग्रीकल्‍चर, महाराष्‍ट्र
    – हॉर्टिकल्‍चरल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्‍टीट्यूट, तमिलनाडु
    – नालंदा कॉलेज ऑफ हॉर्टिकल्‍चर, नालंदा
    – देशभगत यूनिवर्सिटी, पंजाब
    – पंजाब एग्रीकल्‍चर यूनिवर्सिटी, लुधियाना
    – राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्‍वविद्यालय, ग्‍वालियर

    Tags: Education, Job and career, Jobs

    अगली ख़बर