युवाओं को करियर और रोजगार देने के लिए गूगल शुरू कर रहा है सर्टिफिकेट कोर्स, 240 डॉलर है फीस

गूगल सर्टिफिकेट प्रोग्राम चलाएगा.

गूगल सर्टिफिकेट प्रोग्राम चलाएगा.

टेक कंपनी गूगल (Google) सर्टिफिकेट प्रोग्राम (Certificate Program) चलाएगी जिसका सहारा लेकर बेरोजगार युवा स्किल डेवलप कर सकते हैं. दिलचस्प है कि इन सर्टिफिकेट कोर्स करने के लिए किसी भी तरह कॉलेज डिग्री की जरूरत नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 11:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टेक कंपनी गूगल (Google) युवाओं में स्किल डेवलप करने के लिए एक नया प्रोग्राम शुरू करने जा रही है जिसका नाम है ग्रो विद गूगल (Grow With Google). इसके जरिए कंपनी सर्टिफिकेट प्रोग्राम चलाएगी जिसका सहारा लेकर बेरोजगार युवा स्किल डेवलप कर सकते हैं. दिलचस्प है कि इन सर्टिफिकेट कोर्स करने के लिए किसी भी तरह कॉलेज डिग्री की जरूरत नहीं है.

कहा जा रहा है कि गूगल का ये नया प्रयास वर्तमान एजुकेशन सिस्टम में गेम चेंजर साबित हो सकता है. आईएनसी.कॉम को दिए इंटरव्यू में गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा है कि महामारी की वजह से बीता साल बहुत ही बुरा गुजरा है. लेकिन डिजिटल ट्रांसफॉरमेशन की दिशा में बहुत बड़ा बदलाव भी हुआ है. लोग घरों में कैद थे इस वजह से डिजिटल सिस्टम ने एक पुल सरीखा काम किया है.

तीन नए सर्टिफिकेट कोर्स, 130 कंपनियों के जरिए जॉब तलाशने में मिलेगी मदद

इस प्रोग्राम के तहत गूगल तीन नए सर्टिफिकेट कोर्स की शुरुआत करेगा. ये कोर्स मैनेजमेंट, डाटा एनालिसिस और यूजर एक्सपिरियंस डिजाइन में होंगे. इसके अलावा गूगल एक लाख जरूरत के आधार पर स्कॉलरशिप भी देगा. गूगल के साथ काम कर रही 130 कंपनियों से इन सर्टिफिकेट प्रोग्राम में पास हुए युवाओं को रोजगार दिलवाने की कोशिश की जाएगी. इसी प्रोग्राम के तहत गूगल एक ऐसा आसान सर्च फीचर भी निकालेगा जिसके लोगों को नौकरी तलाशने में आसानी होगी. इसमें उन लोगों को भी रखा जाएगा जिनके पास कोई डिग्री और एक्सपीरियंस नहीं है.
सामान्य तौर पर 6 महीने का होगा कोर्स

सर्टिफिकेट प्रोग्राम सामान्य तौर 6 महीने का होगा जिसकी फीस 240 अमेरिकी डॉलर होगी. अगर कोई ये कोर्स तीन ही महीने में पूरा कर लेता है तो उसकी फीस आधी कर दी जाएगी. दरअसल ग्रो विद गूगल इनिशिएटिव के जरिए स्किल्ड लोग तैयार करने के पीछ इकोनॉमी को मदद करना भी है. इसके जरिए लाखों लोगों को रोजगार तलाशने में भी मदद की जाएगी.

क्या बोले सुंदर पिचाई



'अभी इस कार्यक्रम की जरूरत क्या है' के सवाल पर सुंदर पिचाई ने कहा है कि महामारी की वजह से डिजिटल के क्षेत्र में वैकेंसी बढ़ी है लेकिन कई पदों के लिए स्किल्ड लोग नहीं मिल पाते. वो कहते हैं कि जब हम तकनीक के फील्ड में देखते हैं तो कई जॉब सीट इसलिए खाली रह जाती हैं क्योंकि यहां एक मिसमैच है. लोग चाहते हैं कि वो इन पदों पर बैठें. तो हमने सोचा कि आखिर ये गैप क्यों होना चाहिए.

'किसी पार्क में टहलने जैसा' आसान नहीं होगा सर्टिफिकेट

हालांकि ग्रो विद गूगल की वाइस प्रेसिडेंट लीज़ा गेवेलबार कहती हैं कि ये कोर्स 'किसी पार्क में टहलने जैसा' आसान नहीं होगा. उनके मुताबिक हर कोर्स में 100 से ज्यादा असेसमेंट होंगे. लेकिन हम अपनी टीम को ये ताकीद कर चुके हैं कि कोर्स के दौरान स्टूडेंट्स को ये नहीं लगना चाहिए कि वो अकेले हैं.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज