Home /News /career /

जानिए कैसे बन सकते हैं IAS ऑफिसर

जानिए कैसे बन सकते हैं IAS ऑफिसर

UPSC एग्जाम

UPSC एग्जाम

IAS ऑफिसर बनने के लिए UPSC एग्जाम क्लियर करना पड़ता है. इस एग्जाम की तीन स्टेज होती हैं.

    सरकारी अफसर बनने की चाह रखने वाले बहुत से लोगों का सपना IAS ऑफिसर बनना होता है. IAS ऑफिसर के लिए होने वाला एग्जाम संघ लोक सेवा आयोग द्वारा कराया जाता है.  IAS के लिए एग्जाम पैटर्न क्या है. आइए जानते हैं...

    सबसे पहले होती है प्रारंभिक परीक्षा
    इंडियन एडमिनिस्ट्रैटिव सर्विस यानी IAS ऑफिसर बनने के लिए UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) का एग्जाम क्लियर करना पड़ता है. इस एग्जाम की तीन स्टेज होती है. पहली स्टेज में Preliminary एग्जाम होता है. ये एग्जाम होने की घोषणा हर साल फरवरी-मार्च में की जाती है. पेपर जून-जुलाई में होता है और रिजल्ट मिड-अगस्त में आता है.

    परीक्षा के तीनों स्टेज के पेपरों में करंट अफेयर्स से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं. बता दें कि साल 2019 के यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में अब सिर्फ कुछ ही दिन बचे हैं. ये पेपर 2 जून को होना तय हुआ है. इसलिए एग्जाम देने जा रहे सभी स्टूडेंट पेपर के मुताबिक करंट अफेयर्स पर फोकस रखें.

    एग्जाम की दूसरी स्टेज Main एग्जाम है. ये पेपर हर साल अक्टूबर में होता है. रिजल्ट्स हर साल मार्च के दूसरे हफ्ते के करीब घोषित होते हैं.

    इसके बाद Personality Test
    एग्जाम की तीसरी स्टेज Personality Test (इंटरव्यू) है. ये एग्जाम हर साल दिसंबर में होता है. फाइनल रिजल्ट अकसर मई में जारी होता है.

    मुख्य परीक्षा में इन अभ्यर्थियों को मिलता है मौका
    Preliminary एग्जाम के स्कोर के आधार पर Main एग्जाम के लिए क्वालीफाई माना जाता है. Main एग्जाम और PT टेस्ट के आधार पर रैंक तय की जाती है.

    -Preliminary एग्जाम का पैटर्न 2010 तक कोठारी आयोग (1979) की सिफारिशों पर आधारित था. इसमें दो परीक्षाएं शामिल थीं, जिनमें से 150 अंकों के पेपर में जनरल स्टीज और दूसरे में 23 वैकल्पिक विषयों में से एक का 300 नंबरों का पेपर. फिर Preliminary एग्जाम के तरीके में कुछ बदलाव हुआ और अब इसे सिविल सर्विस एप्टिट्यूड टेस्ट (CSAT) कहा जाता है. (आधिकारिक तौर पर इसे अभी भी जनरल स्टीज पेपर -1 और पेपर -2 कहा जाता है.) नए पैटर्न में दो घंटे की अवधि में दो पेपर होते हैं. हर एक में 200 अंक शामिल होते हैं.

    -मेन एग्जाम में नौ पेपर होते हैं. जिसमें दो क्वालिफाई करने होते हैं और सात रैंकिंग वाले होते हैं. इन पेपर्स में सवाल एक से 60 नंबर्स तक हो सकते हैं. जिनके जवाब 20 शब्दों से 600 के बीच दिया जा सकता है. क्वालिफाईंग पेपर्स पास करने वाले उम्मीदवारों को अंकों के अनुसार रैंक दिया जाता है. सेलेक्टेड कैंडीडेट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. यहां व्यक्तित्व परीक्षण किया जाता है.

    ये होते हैं 9 पेपर्स
    Paper A- 300 नंबरों का पेपर होता है. ये पेपर कैंडीडेट द्वारा चुनी किसी भी भारतीय भाषा या इंग्लिश में हो सकता है.

    Paper B- ये भी 300 नंबरों का पेपर होता है, क्वालीफाईंड एग्जाम होता है.

    Paper I- 250 नंबरों का पेपर होता है. जिसमें Essay लिखना होता है.

    Paper II- 250 मार्कस का पेपर होता है, इसमें सामान्य अध्ययन I (भारतीय विरासत और संस्कृति, इतिहास और विश्व और समाज का भूगोल).

    Paper III- सामान्य अध्ययन II (शासन, संविधान, राजव्यवस्था, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध) ये पेपर भी 250 मार्कस का होता है.

    Paper IV- सामान्य अध्ययन III (प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन) ये पेपर भी 250 मार्कस का होता है.

    Paper V- सामान्य अध्ययन IV (नैतिकता, अखंडता और योग्यता)

    Papers VI, VII- 500 नंबरों का पेपर. वैकल्पिक विषयों की सूची से उम्मीदवार द्वारा चुने जाने वाले विषयों पर दो पेपर (प्रत्येक पेपर के लिए 250 अंक)

    लिखित पेपरों के कुल नंबर- 1750 नंबरों की सभी लिखित परीक्षाएं. पर्सनेलिटी टेस्ट (इंटरव्यू) 275 नंबरों का होता है.

    कुल नंबर : 2025

    ये भी पढ़ें-
    बाप-बेटी ने यहां से एक साथ पास की 10th क्लास
    छत्‍तीसगढ़ में टीचर्स के लिए निकली है बंपर भर्ती
    IIT दिल्ली में वेकैंसी, 63 हजार तक की सैलरी, ऐसे करें आवेदन
    RRB ALP Revised का रिजल्ट जारी, यहां से डाउनलोड करें स्कोरकार्ड

     

    Tags: Government jobs, IAS exam, Jobs news, UPSC Exams

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर