Sarkari Naukri : जानिए कैसे बनते हैं IAS अधिकारी, ये सेलेक्शन प्रोसेस और सैलरी, ऐसे शुरू करें तैयारी

आईएएस अधिकारी पद पर चयन यूपीएससी तीन चरणों की परीक्षा के बाद करता है.

आईएएस अधिकारी पद पर चयन यूपीएससी तीन चरणों की परीक्षा के बाद करता है.

Sarkari Naukri : यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा क्वॉलिफाई करके देश का शीर्ष अधिकारी यानी आईएएस बना जा सकता है. इसके लिए युवाओं को अधिकतम 12वीं पास करते-करते बेसिक तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 11:27 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. संघ लोक सेवा आयोग यानी यूपीएससी (UPSC) द्वारा हर वाल सिविल सेवा परीक्षा के जरिए देश के लोक प्रशासन, नीति निर्माण व कार्यान्वयन, कानून व्यवस्था बनाए रखने जैसे कार्यों के लिए शीर्ष अधिकारियों का चयन किया जाता है. इसमें आईएएस आईपीएस और आईएफएस जैसे अधिकारी शामिल होते हैं. यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा को देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है. सिविल सर्विस परीक्षा में टॉप रैंक आईएएस पाने वाले ही आईएएस चुने जाते हैं. इनके जिम्मे देश चलाने का अधिकार होता है. सिविल सर्विस परीक्षा देने के लिए किसी भी आवेदक का ग्रेजुएट होना जरूरी है. आइए जानते हैं कि कैसे बन सकते हैं आईएएस अधिकारी और कितनी होती है इनकी सैलरी. अधिक विस्तार से जानने के लिए आप यूपीएससी की वेबसाइट upsc.gov.in पर विजिट कर सकते हैं.

आईएएस अधिकारी बनने के योग्यता ( IAS Eligibility Criteria 2021)

- अभ्यर्थी का भारत, नेपाल या भूटान का नागरिक होना चाहिए

- किसी भी विषय में ग्रेजुएशन
- समान्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए आयु सीमा 21 से 32 वर्ष है. अभ्यर्थी अधिकतम छह बार परीक्षा दे सकते हैं

- एससी/एसटी वर्ग के अभ्यर्थी 37 वर्ष तक सिविल सेवा परीक्षा में शामिल हो सकते हैं. इनके लिए अटेंप्ट की लिमिट नहीं है.

- ओबीसी वर्ग के अभ्यर्थी अधिकतम 35 वर्ष तक परीक्षा दे सकते हैं. ये अधिकतम 9 बार परीक्षा दे सकते हैं.



- दिव्यांग अभ्यर्थियों की उम्र सीमा 42 वर्ष तक है. सामान्य और ओबसी वर्ग के दिव्यांग अभ्यर्थी नौ बार परीक्षा दे सकते हैं. एससी व एसटी के लिए कोई लिमिट नहीं है.

तीन चरणों की होती है परीक्षा

यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों में होती है. इसके बाद फाइनल सेलेक्शन होता है. सबसे पहले प्रारंभिक परीक्षा होती है. इसके बाद मुख्य परीक्षा और फिर इंटरव्यू. प्रारंभिक परीक्षा में ऑब्जेक्टिव टाइप के दो पेपर होते हैं. दोनों 200-200 अंकों के होते हैं. इस राउंड को क्लियर करने के बाद होने वाली मुख्य परीक्षा ऑब्जेक्टिव टाइप न होकर लिखित होती है. इसमें कुल 9 पेपर होते हैं. इसे भी क्लीयर करने वाले अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. यह करीब 45 मिनट का होता है. इसमें अभ्यर्थी के व्यक्तित्व परखा जाता है. इंटरव्यू कई सदस्यों के एक पैनल द्वारा लिया जाता है. इंटरव्यू लेने वाले सदस्य विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ और विषयों के प्रोफेसर होते हैं.

आईएएस की तैयारी के लिए कुछ टिप्स (IAS Exam Preparation Tips)

- प्रतिदिन करीब 25 से 30 मिनट अखबार पढ़ें, इससे करंट अफेयर्स की अच्छी तैयारी हो जाएगी.

- तैयारी की शुरुआत एनसीईआरटी की किताबें पढ़ने से करें

- अपने समय को मैनेज करें. एक रूटीन निश्चित करें. अनावश्यक रूप से समय बर्बाद न करें.

-पढ़ाई के साथ विभिन्न मुद्दों पर लिखने का भी खूब अभ्यास करें

- सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी का फैसला अधिकतम 12वीं पास करते-करते ले लेना चाहिए. ताकि ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर तक इसकी तैयारी समर्पित होकर शुरू कर सकें.

आईएएस अधिकारी को इतना मिलता है वेतन ( IAS Officer Salary)

आईएएस अधिकारी की वर्तमान में बेसिक सैलरी 56100 रुपये है. इसमें कई तरह के भत्ते और कटौतियां होने के बाद कुल 58135 रुपये वेतन हाथ में मिलते हैं. यह वेतन एक से चार साल तक की नौकरी में मिलता है. इस दौरान आईएएस अधिकारी एसडीएम/अवर सचिव या सहायक सचिव के पद पर काम करता है.

एक आईएएस अधिकारी को 37 साल से अधिक वर्ष की नौकरी के बाद ढ़ाई लाख से ऊपर वेतन मिलता है.

ये भी पढ़ें

UP Police SI Exam 2021: इस तरह से करें यूपी एसआई भर्ती परीक्षा की तैयारी

Sarkari Naukri : 10वीं पास के लिए पैरामिलिट्री में भर्ती होने का शानदार मौका

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज