IAS Preparation Tips: प्री एग्‍जाम में पूछे जा सकते इन नये टॉप‍िक्‍स पर सवाल, जानें

IAS Preparation Tips: प्री एग्‍जाम में पूछे जा सकते इन नये टॉप‍िक्‍स पर सवाल, जानें
प्रारंभ‍िक परीक्षा में पूछे जा सकते हैं इन टॉप‍िक्‍स पर सवाल

IAS Preparation Tips: यूपीएससी स‍िव‍िल सेवा की प्रारंभ‍िक परीक्षा में इस साल इन नवीनतम टॉप‍िक्‍स पर प्रश्‍न हो सकते हैं.

  • Share this:
IAS Preparation Tips: एक अच्‍छी खबर यह है कि यूपीएससी(UPSC) ने आईएएस (IAS) परीक्षा के बचे हुए इन्‍टरव्‍यू कोरोना महामारी के इस चुनौती भरे दौर में भी अंतत: पूरे कर ही लिए. हम उम्‍मीद कर सकते हैं कि स्‍वतंत्रता दिवस तक आते-आते आयोग पिछले वर्ष आयोजित इस परीक्षा के अंतिम परिणम घोषित कर देगा. जब भी परीक्षा के अंतिम परिणाम घोषित होते हैं, स्‍वाभाविक तौर पर उस परीक्षा के प्रति देश में एक माहौल बनने लगता है और परीक्षार्थी अपनी अंगड़ाइयां तोड़कर अगले साल की तैयारी के लिए कमर कसकर खड़े हो जाते हैं. मैं उम्‍मीद करता हूंं कि वह दिन जल्‍दी ही आयेगा.

प्रारंभ‍िक परीक्षा की तारीख में बदलाव:
यहांं एक बात फिलहाल जरूर अटकी हुई है और वह है – इस साल की होने वाली प्रारम्भिक परीक्षा. इसकी तारीख 31 मई से बढ़ाकर 4 अक्‍टूबर कर दी गई है. देखते हैं कि यह हो पाती है या नहीं. जिस तरह से करोना का संक्रमण फैलता चला जा रहा है, उसे लेकर मन में कहीं-न-कहीं, एक छोटी-सी ही सही, दुविधा की स्थिति पैदा हो ही जाती है.

लेकिन इस बारे में सतर्क रहा ही जाना चाहिए. यह नहीं मान लिया जाना चाहिए कि इसकी तिथि 4 अक्‍टूबर से भी आगे बढ़ सकती है, इसलिए फिलहाल हम अपनी तैयारी में कुछ ढि़लाई दे दें. ऐसा सोचना न केवल अपने पैरों पर कुल्‍हाड़ी मारने जैसा ही होगा, बल्कि सिविल सर्विस की तैयारी करने वाले परीक्षार्थियों का जैसा मनोविज्ञान होना चाहिए, उसके प्रतिकूल भी होगा. इसलिए आपको चाहिए कि आप अपनी तैयारी की निरन्‍तरता को लगातार बनाए रखें.
इन टॉप‍िक्‍स पर हो सकते हैं सवाल:


जैसा कि तैयारी करने वाले परीक्षार्थी इस तथ्‍य को बहुत अच्‍छे तरीके से जानते हैं – इसमें करेन्‍ट अफेयर्स की बहुत बड़ी भूमिका होती है. यह वह तथ्‍य है, जो इस परीक्षा को जरूरत से ज्‍यादा चुनौतीपूर्ण भी बना देता है. यहांं मैं तैयारी करने वालों से विशेष रूप से कहना चाहूंगा कि अब वे अपनी करेन्‍ट अफेयर्स की तैयारी को आगे बढ़ाकर जुलाई माह तक ले आएं. यानी कि करेन्‍ट अफेयर्स की तैयारी को मार्च 2019 से लेकर जुलाई 2020 तक का होना चाहिए.

हांं, यह बात जरूर है कि देश में जब से लॉकडाउन की स्थिति आई है, चूंकि इसके बाद से अधिकांशत: राष्‍ट्रीय और अन्‍तरराष्‍ट्रीय गतिविधियां कोरोना वाइरस तक सिमटकर रह गई हैं, इसलिए अप्रैल से जुलाई तक आपके पास पढ़ने-सुनने और समझने के लिए भी बहुत ज्‍यादा टॉपिक्‍स हैं नहीं. लेकिन फिर भी इसकी उपेक्षा नहीं की जानी चाहिए.

उदाहरण के तौर पर मैं कुछ ऐसे बहुत महत्‍वपूर्ण टॉपिक्‍स की ओर आपका ध्‍यान आकर्षित करना चाहूंगा. ये हैं- विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन, भारत तथा चीन एवं विश्‍व के मध्‍य बढ़ रहा तनाव, सुरक्षा परिषद के लिए भारत का निर्वाचन, भारत एवं यूरोपीय संघ के संबंध, कोरोना संक्रमण से संबंधित वैज्ञानिक जानकारियां, विशेषकर शब्‍दावलियों के बारे में, भारत का राष्‍ट्रीय आपदा प्रबंधन कानून, दल-बदल विरोधी कानून, सर्वोच्‍च न्‍यायालय के अधिकार, अर्थव्‍यवस्‍था के लिए दी गई आर्थिक सहायता, एफ्फन, निसर्ग एवं हन्‍ना तूफान, प्रवासी मजदूरों का संकट, विश्‍व अर्थव्‍यवस्‍था के सामने उत्‍पन्‍न चुनौतियाँ तथा भारत का संघात्‍मक स्‍वरूप आदि.

यहांं मैंने केवल महत्‍वपूर्ण टॉपिक्‍स की ओर ही आपका ध्‍यान आकर्षित किया है. इस दौरान अन्‍य जो छोटे-मोटे तथ्‍य उभरकर सामने आए हैं, चूंकि उनकी लिस्‍ट बड़ी लम्‍बी होगी, इसलिए उन्‍हें यहां नहीं रखा गया है. मेरा विश्‍वास है कि उन छोटी-मोटी घटनाओं से आप अच्‍छी तरह परिचित होंगे ही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading