• Home
  • »
  • News
  • »
  • career
  • »
  • चार बार UPSC में हुए फेल, 5वीं बार मां ने कहा एक कोशिश और कर तब बने IPS

चार बार UPSC में हुए फेल, 5वीं बार मां ने कहा एक कोशिश और कर तब बने IPS

अक्षत ने यूपीएससी की परीक्षा पास की और पुलिस अफसर बनने का सपना पूरा किया.

अक्षत ने यूपीएससी की परीक्षा पास की और पुलिस अफसर बनने का सपना पूरा किया.

IAS Success Story: किसी भी विषय को लेकर ओवर कॉनफिडेंस में भी न आएं. कई बार तैयारी के वक्त ऐसा लगता है कि ये विषय मुझे अच्छी तरह से आता है ऐसे में उसके बारे में पढ़ाई नहीं करना सही समझते हैं, जो गलत है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में हर चौथा बच्चा अफसर बनने के सपने देखता है. हो भी क्यों न अफसर बनने का रौब और रुतबा ही ऐसा होता है कि कोई भी ये सपना देखने लगे. इसलिए लाखों बच्चे यूपीएससी की तैयारी करते हैं. देश की सबसे प्रतिष्ठित और मुश्किल परीक्षा में छात्र दिन-रात मेहनत करके पास होते हैं. कुछ पहले प्रयास में सफल हो जाते हैं, कुछ इसके बाद अफसर बनकर ही दम लेते हैं.

    ऐसे ही एक योद्धा ने चार बार फेल होने के बाद 5वीं बार में यूपीएससी की परीक्षा पास की और पुलिस अफसर बनने का सपना पूरा किया. आईपीएस सक्सेज स्टोरी (IPS Success Story) में आज हम आपको अक्षत कौशल के संघर्ष की कहानी सुना रहे हैं.

    निराशा के बाद मिली सफलता
    अक्षत कौशल ने बताया कि चार बार फाइनल रिजल्ट में नाम न आने पर काफी वह हताश हो गए थे. उनका मानना था कि शायद उनकी किस्मत में सिविल सर्विस की परीक्षा को निकालना नहीं लिखा है, लेकिन पांचवें अटेम्प्ट में जो हुआ, उसकी उम्मीद उन्होंने ने भी नहीं लगाई थी. केवल 17 दिन की तैयारी में उन्होंने सिविल सर्विस की परीक्षा में सफलता हासिल कर ली. अक्षत का मानना है कि इस परीक्षा के लिए सबसे पहले धैर्य की जरूरत होती है.

    अब अक्षत ने तय कर लिया था कि वो अफसर ही बनेंगे, लेकिन एक वक्त वो भी आया जब उन्हें लगा कि उनका ये सपना कभी पूरा नहीं होने वाला. अक्षत ने दिन-रात मेहनत करके परीक्षा की तैयारी की. वो अब तक तीन बार एग्जाम दे चुके थे. लोग मजाक उड़ाते थे. हर दूसरा शख्स पूछता था नौकरी कब लगेगी. चौथी बार भी रिजल्ट में नाम नहीं आने पर वो परेशान होकर घर से बाहर टहलने के लिए निकल गए.

    अक्षत कौशल के मुताबिक उन्होंने साल 2012 से सिविल सर्विस की तैयारी शुरू की थी ऐसे में उन्हें चार साल तक इस परीक्षा में लगातार असफलता हासिल होती चली गई. अक्षत कौशल के मुताबिक उन्होंने साल 2012 से सिविल सर्विस की तैयारी शुरू की थी ऐसे में उन्हें चार साल तक इस परीक्षा में लगातार असफलता हासिल होती चली गई.

    अक्षत ने ठान ही लिया था कि वो अब अफसर बनने के सपने को छोड़ कोई छोटा-मोटा काम करके गुजारा करेंगे. उन्होंने पढ़ाई भी छोड़ दी. दोस्तों ने काफी समझाया कि हार नहीं माननी चाहिए तो अक्षत ने पांचवी बार कोशिश करनी की सोची.

    अपने माता-पिता को बताया कि वो एक बार फिर से इसकी तैयारी करेंगे. उनकी मां ने भी बेटे का हौसला बढ़ाया और कहा हां एक बार और कोशिश करके देख ले. तब प्रीलिम्स में केवल 16 दिन बचे थे. साल 2017 में अक्षत ने इन 16-17 दिन में ही एग्जाम की तैयारी की और उन्होंने पांचवीं कोशिश में 55वीं रैंक हासिल कर टॉप किया. सफलता के बाद अक्षत ने पुलिस सर्विस में जाना चुना और IPS बन गए.

    अक्षत के मुताबिक जरूरी नहीं बाकी युवाओं की तरह आप भी इसे कोचिंग के सहारे निकाल सकते हैं. उन्होंने बताया जैसे मैंने सोशियोलॉजी के लिए कोचिंग की थी क्योंकि ग्रेजुएशन लेवल पर सोशियोलॉजी मेरा सब्जेक्ट नहीं था. अक्षत के मुताबिक जरूरी नहीं बाकी युवाओं की तरह आप भी इसे कोचिंग के सहारे निकाल सकते हैं. उन्होंने बताया जैसे मैंने सोशियोलॉजी के लिए कोचिंग की थी क्योंकि ग्रेजुएशन लेवल पर सोशियोलॉजी मेरा सब्जेक्ट नहीं था. जरूरत पड़ने पर कोचिंग ले. अब ऐसे कई प्लेटफॉर्म है जिससे जरिए आप यूपीएससी के सैंपल पेपर सॉल्व कर सकते हैं या फिर जिस विषय में आपकी पकड़ नहीं उसके लिए कोचिंग कर सकते हैं.

    पांचवी बार सफल होने वाले अक्षत यूपीएससी की तैयारी कर रहे युवाओं को सफलता के मंत्र भी देते हैं. उन्होंने सबसे पहले कहा कि धैर्य रखें और खुद पर भरोसा भी. अक्षत ने कहा, सिविल सर्विस की तैयारी के लिए परीक्षा के नेचर को समझना जरूरी है, अपनी तैयारी को पुख्ता रखें और कोशिश करें कि अपनी खुद गलतियां करने से बचे और दूसरे की गलतियों से सीखें. किसी भी विषय को लेकर ओवर कॉनफिडेंस में भी न आएं. कई बार तैयारी के वक्त ऐसा लगता है कि ये विषय मुझे अच्छी तरह से आता है ऐसे में उसके बारे में पढ़ाई नहीं करना सही समझते हैं, जोकि गलत है.

    तैयारी के वक्त एक सही ग्रूप का चयन किजिए, जो आपको न सिर्फ सही सलाह दे बल्कि आपकी गलतियों पर भी आपको टोके. किसी भी विषय को अगर अपनी ताकत मानते हैं तो परीक्षा के वक्त उसपर अधिक भरोसा करके न चले. जैसे आप इस विषय को निकाल ही लेंगे, खुद से ज्यादा अनुभवी लोगों से इस बारे में जरूर बात करें.

    ये भी पढ़ें- CBSE Syllabus 2020-21: NCERT तैयार कर रहा नया शैक्षणिक कैलेंडर, क्‍या पिछले साल से छोटा होगा इस साल का सिलेबस

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज