लाइव टीवी

IAS Success Story: महज 4 घंटे की पढ़ाई करके इस शख्‍स ने किया UPSC में टॉप, पाई तीसरी रैंक

News18Hindi
Updated: October 20, 2019, 3:14 PM IST
IAS Success Story: महज 4 घंटे की पढ़ाई करके इस शख्‍स ने किया UPSC में टॉप, पाई तीसरी रैंक
IAS Success Story: जुनैद के मुताबिक, सिविल सर्विसेज की तैयारी की शुरुआत में आठ से 10 घंटे लगातार पढ़ाई करते थे लेकिन बाद में बेसिक समझने के बाद तैयारी का समय सिमट गया.

IAS Success Story: जुनैद के मुताबिक, सिविल सर्विसेज की तैयारी की शुरुआत में आठ से 10 घंटे लगातार पढ़ाई करते थे मगर बाद में बेसिक समझने के बाद तैयारी का समय सिमट गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2019, 3:14 PM IST
  • Share this:
IAS Success Story: अक्‍सर जब भी हम यूपीएससी (UPSC) जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं तो ये मानते हैं कि 10 से 12 घंटे पढ़ाई करके ही सफलता मिलती है. उम्‍मीदवार मानते हैं कि परीक्षा क्रैक करना है तो उसे दिन-रात पढ़ना पड़ेगा. लेकिन कुछ ऐसे भी हैं, जो ये मानते हैं कि अगर सही रणनीति से पढ़ाई की जाए तो चार घंटे की पढ़ाई से भी सफलता पाई जा सकती है. जी हां, इस शख्‍स का नाम है जुनैद अहमद. जुनैद ने चार घंटे की पढ़ाई करके देश भर में चौथा स्‍थान हासिल किया. कैसे किया उन्‍होंने ये सबकुछ आइए जानते हैं.

बचपन का सपना
जुनैद उत्तर प्रदेश के जिला बिजनौर स्थित नगीना कस्बे से ताल्‍लुक रखते हैं. जुनैद के पिता जावेद हुसैन वकील और माता आयशा रजा हाउस वाइफ हैं. जुनैद का बचपन से सपना था कि वह एक दिन भारतीय प्रशासनिक सेवा का हिस्सा बनें. हालांकि उनके परिवार में कोई प्रशासनिक सेवा में नहीं था. ऐसे में कोई अधिक जानकारी भी नहीं थी लेकिन फिर भी उन्‍होंने इस  बारे में रिसर्च शुरू की और फिर तैयारी शुरू कर दी.

जामिया से ली कोचिंग

जुनैद अहमद ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया स्थित जामिया रेजीडेंशियल कोचिंग अकादमी से कोचिंग ली. जामिया की कोचिंग अकादमी मुफ्त में सिविल सर्विसेज के छात्रों को तैयारी करवाती है. इसमें रहना, खाना समेत कोचिंग मुफ्त होती है.

चार घंटों में अटूट मेहनत
जुनैद के मुताबिक, सिविल सर्विसेज की तैयारी की शुरुआत में आठ से 10 घंटे लगातार पढ़ाई करते बेसिक समझ में आने के बाद तैयारी का समय घटकर चार घंटों तक सिमट गया.  जुनैद का मानना है कि घंटों से पढ़ाई नहीं होती, बस जो भी पढ़ें, ध्यान लगाकर तैयारी करें तो सफलता अवश्य मिलेगी.
Loading...

5वें प्रयास में मिली सफलता
सिविल सर्विसेज की चार बार परीक्षा देने के बाद पांचवी बार में परीक्षा में सफलता हासिल हुई. पहली बार में  भारतीय राजस्व सेवा में चयन हुआ था. हालांकि जुनैद का सपना भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाने का था. इसी के चलते पांचवीं बार फिर से परीक्षा दी और सिविल सर्विसेज 2018 की परीक्षा में ऑल ओवर इंडिया में तीसरा स्थान मिला.

ये भी पढ़ें:
IAS Success Story: दर्जी का बेटा अखबार बेचकर पालता था परिवार का पेट, ऐसे बना आईएएस
IAS Success Story: हाउस वाइफ और एक बच्चे की मां ऐसे बनी 80वीं रैंक के साथ IAS

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 7:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...