UPSC Civil Service Exam 2019: आईएएस टॉपर प्रदीप सिंह की जुबानी, जानिए किस फार्मूले से किया टॉप

UPSC Civil Service Exam 2019: आईएएस टॉपर प्रदीप सिंह की जुबानी, जानिए किस फार्मूले से किया टॉप
प्रदीप सिंह ने बताया कि उन्होंने तैयारी कैसे की.

UPSC Civil Services Exam 2019: प्रदीप का मानना है कि हर दिन कोई तय घंटे पढ़ाई नहीं कर सकता है. यही वजह है कि साप्ताहिक पाठ्यक्रम तय करके चलें. प्रदीप ने साप्ताहिक तय पाठ्यक्रम का शेड्यूल अपने जीवन में 12वीं से ही अपनाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 7:40 PM IST
  • Share this:
भारत में आमतौर पर हर युवा के मन में सिविल सर्वेंट बनने का सपना होता है. हर साल लाखों युवा इसकी तैयारी करते हैं. लेकिन सिर्फ मुट्ठी भर लोग ही सफल हो पाते हैं. कई बार मेहनत करने के बाद भी सफलता मिलनी मुश्किल होती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम तैयारी करने के बाद भी गलत दिशा में तैयारी करते हैं. पिछले हफ्ते मंगलवार को यूपीएससी ने सिविस सर्विसेज 2019 का रिजल्ट घोषित किया. इस बार प्रदीप सिंह ने टॉप किया. आपको बताते हैं कि उनकी सफलता के क्या राज हैं-

एक हफ्ते की पढ़ाई करें निर्धारित
इस बार के यूपीएससी सिविल सर्विसेज टॉपर प्रदीप सिंह ने अमर उजाला को अपने टॉप करने का फॉर्मूला बताया. उन्होंने कहा कि टॉप करने का फार्मूला ही साप्ताहिक पाठ्यक्रम है. प्रदीप का कहना है कि आप पढ़ाई को घंटे में मत तौलों. एक सप्ताह में कितना पढ़ना है यह जरूर तय कर लें. लेकिन जितना तय कर लें उतना जरूर पढ़ें. प्रदीप का मानना है कि हर दिन कोई तय घंटे पढ़ाई नहीं कर सकता है. यही वजह है कि साप्ताहिक पाठ्यक्रम तय करके चलें. प्रदीप ने साप्ताहिक तय पाठ्यक्रम का शेड्यूल अपने जीवन में 12वीं से ही अपनाया है.

नौकरी के साथ की पढ़ाई
प्रदीप ने नौकरी करते हुए चार साल तक तैयारी की. वह सुबह से लेकर शाम तक नौकरी करते थे और बचे हुए टाइम में पढ़ाई करते थे. प्रदीप के पिता किसान हैं.  प्रदीप सिंह दो बार प्री में असफल भी हुए हैं. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. कोई भी नौकरी मिलने के बाद लोग शांत होकर बैठ जाते हैं. लेकिन कुछ बड़ा करने वालों के प्रयास जारी रहते हैं.



ये भी पढ़ेंः


 

टाइम मैनेजमेंट
प्रदीप सिंह का दूसरा फार्मूला टाइम मैनेजमेंट है. प्रदीप इसे पढ़ाई का सबसे बड़ा मूल मंत्र बताते हैं. प्रदीप कहते हैं कि जब आप टाइम मैनेजमेंट से पढ़ाई करेंगे तो तय साप्ताहिक पाठ्यक्रम को जरूर पूरा कर सकते हैं. प्रदीप का कहना है कि आपने साप्ताहिक शेड्यूल बना लिया है तो किसी दिन कम पढ़ाई कर सकते हैं और किसी दिन ज्यादा. सबसे खास बात यह है कि पढ़ाई कर रहे हो तो उसी पर ध्यान दें. परिणाम की चिंता न करें. प्रदीप कहते हैं कि परिणाम की चिंता करने से टॉपर तो दूर की बात है, सफलता मिलने में भी मुश्किलें होंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज