लाइव टीवी

IIT में M.Tech में दाखिला लेने वाले स्टूडेंट्स की बढ़ेगी फीस, पढ़ें डिटेल

News18Hindi
Updated: September 29, 2019, 12:22 PM IST
IIT में M.Tech में दाखिला लेने वाले स्टूडेंट्स की बढ़ेगी फीस, पढ़ें डिटेल
आईआईटी दिल्ली की एमटेक की एक सेमेस्टर की ट्यूशन फीस10,000 रुपये है.

गेट स्कोर के आधार पर M.Tech में दाखिला लेने वाले छात्रों को हर महीने 12,400 रुपये का स्टाइपेंड मिलता था. अब स्टाइपेंड खत्म करने का भी सुझाव दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2019, 12:22 PM IST
  • Share this:
IIT M.Tech Student Increased Fees: आईआईटीज में एमटेक प्रोग्राम में दाखिला लेने वाले स्टूडेंट्स के लिए ज़रूरी खबर है. एमटेक प्रोग्राम की फीस में करीब 9 गुना बढ़ोतरी होनी है. आईआईटीज काउंसिल ने एमटेक फीस को बीटेक कोर्स की फीस के बराबर करने को मंजूरी दी है. फिलहाल एमटेक कोर्स की एडमिशन और ट्यूशन फीस एक सेमेस्टर के लिए 5 से 10,000 रुपये है. फीस बढ़ाने के अलावा और भी कई बदलाव हुए हैं. पढ़ें सभी बदलाव के लिए मिले सुझाव.

गेट स्कोर के आधार पर दाखिला लेने वाले छात्रों को हर महीने 12,400 रुपये का स्टाइपेंड मिलता था. अब 12,400 रुपये के स्टाइपेंड को खत्म करने का भी सुझाव दिया गया है. इस स्टाइपेंड के कुछ हिस्से का इस्तेमाल यूजी लैब्स और कोर्स में टीचिंग असिस्टेंटशिप के तौर पर देने के लिए होगा.

-स्टाइपेंड बंद कर इस फंड का इस्तेमाल अन्य पेशेवराना गतिविधियों के किया जाएगा. जरूरतमंद छात्रों की मदद डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर या एजुकेशनल लोन के माध्यम से की जाए.

एमटेक ट्यूशन फीस

आईआईटी मुंबई की एमटेक की एक सेमेस्टर की ट्यूशन फीस 5,000, आईआईटी दिल्ली की 10,000 रुपये है. आईआईटी मद्रास में 3,750 रुपये के एकमुश्त भुगतान के साथ ट्यूशन फीस 5,000 रुपये है. आईआईटी खड़गपुर के पहले सेमेस्टर की फीस 25,950 रुपये है. इसमें से 6,000 रुपये रिफंड हो जाता है. बाद के सेमेस्टरों के लिए 10,550 रुपये फीस है. कुल 23 आईआईटीज में से सात पुरानी आईआईटीज में करीब 14,000 एमटेक छात्र हैं.

प्रोफेसरों के परफॉर्मेंस की होगी समीक्षा
काउंसिल की मीटिंग में 'टेन्योर ट्रैक सिस्टम' को मंजूरी दी गई है. अब नए प्रोफेसरों के परफॉर्मेंस की हर 5 साल पर समीक्षा होगी. नए प्रोफेसरों का असोसिएट प्रोफेसर के तौर पर प्रमोशन होगा या फिर उनकी छुट्टी कर दी जाएगी. कह सकते हैं पांच साल के बाद ही नए प्रोफेसरों का भाग्य तय होगा कि उनकी नौकरी आगे जारी रहेगी या जाएगी.
Loading...

ये भी पढ़ें-
AP Grama Sachivalayam 1.6 लाख वैकेंसी: 30 सितंबर को जारी होंगे अपॉइंटमेंट लेटर
CAT 2019 Correction window खोला गया, पढ़ें जरूरी निर्देश
गरीबी के चलते छोड़ी थी मेडिकल की पढ़ाई, अब गरीबों को कराते हैं NEET की तैयारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 29, 2019, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...