आई.ए.एस. की परीक्षा में निबन्‍ध का वजन, पढ़ें पूर्व सिविल सर्वेन्‍ट की राय

थोड़ी-सी भी अतिरिक्‍त मेहनत की जाए, तो निबन्‍ध के पेपर में 140 नम्‍बर आसानी से हासिल किये जा सकते हैं.

थोड़ी-सी भी अतिरिक्‍त मेहनत की जाए, तो निबन्‍ध के पेपर में 140 नम्‍बर आसानी से हासिल किये जा सकते हैं.

आपके पास अभी जो अतिरिक्‍त समय है, उसमें आप निबन्‍ध के लिए कुछ अच्‍छे टॉपिक्‍स चुन लें और उन पर लिखने का अभ्‍यास करें. बेहतर होगा कि निबन्‍ध लिखने के बाद उसे खुद जांचें और देखें कि इसे आप कैसे और बेहतर बना सकते हैं. परीक्षा में बैठने से पहले प्रत्‍येक परीक्षार्थी को कम से कम 20 निबन्‍ध लिखने का अभ्‍यास तो कर ली लेना चाहिए.

  • Share this:

नई दिल्ली. ऊपर से देखने पर और सरसरी निगाह से सुनने पर यह विषय लगता तो बहुत आसान और सरल है, लेकिन सच में ऐसा है नहीं. मैं दरअसल निबन्‍ध के विषय की बात कर रहा हूँ, जो आय.ए.एस. की मुख्‍य परीक्षा में एक स्‍वतंत्र विषय के रूप में शामिल है. आई.ए.एस. की मुख्‍य परीक्षा में आपको दो निबन्‍ध लिखने होते हैं, जिनमें से प्रत्‍येक 125 अंकों का होता है. निबन्‍ध के प्रश्‍न-पत्र को दो भागों में बांटा गया है. इसके एक भाग में 4 टॉपिक दिये जाते हैं तथा दूसरे भाग में भी 4 टॉपिक्‍स. इनमें से प्रत्‍येक भाग से एक-एक निबन्‍ध लिखना होता है.

अधिकांश टॉपिक्‍स का मुख्‍य संबंध जीवन-प्रबंधन से 

यदि हम इन भागों के चरित्र को विश्‍लेषित करें, तो साफ तौर पर यह दिखाई देता है कि पहले भाग के अंतर्गत दिये गये अधिकांश टॉपिक्‍स का मुख्‍य संबंध जीवन-प्रबंधन से होता है. इसे आप मुख्‍य परीक्षा के ही चौथे प्रश्‍न पत्र नीतिशास्‍त्र का एक संशोधित संस्‍करण कह सकते हैं. ये टॉपिक्‍स सरल तथा जीवन के व्‍यावहारिक बातों से जुड़े होते हैं. कम से कम एक टॉपिक तो ऐसा भी होता ही है, जिस पर कोई भी युवा लिख सकता है. हाँ, इसी के अंतर्गत एकाध विषय थोड़ी-सी विशिष्‍टता लिये होता है, जिसे लिखने के लिए अपेक्षाकृत अधिक चिन्‍तन-मनन की जरूरत होती है.

दूसरे भाग का संबंध सामान्‍यत: सम-सामयिक घटनाओं से होता है. इसके विषय राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक तथा विज्ञान आदि से जुड़े होते हैं. इसे आप एक प्रकार से मुख्‍य परीक्षा के सामान्‍य अध्‍ययन के प्रश्‍न-पत्र दो और तीन से जोड़कर देख सकते हैं.
सामान्‍यत: यह देखा गया है कि जिन परीक्षार्थियों को चयन सूची में स्‍थान मिलता है, इस पेपर में उनका स्‍कोर 130 मार्क्‍स (52%) से अधिक होना ही चाहिए. वैसे जहाँ तक मेरी जानकारी है, इस पेपर में अधिकतम स्‍कोर 165 तक रहा है. पिछले साल के टॉपर्स को इसमें 140 नम्‍बर मिले थे तथा उससे भी पिछले साल के टॉपर्स को 133 नम्‍बर मिले थे.

अतिरिक्‍त मेहनत की जाए, तो निबन्‍ध में 140 नम्‍बर आसानी से 

मुझे ऐसा लगता है कि यदि थोड़ी-सी भी अतिरिक्‍त मेहनत की जाए, तो निबन्‍ध के पेपर में 140 नम्‍बर आसानी से हासिल किये जा सकते हैं. ऐसी स्थिति में यह रणनीति बिल्‍कुल भी गलत नहीं होगी कि आप अन्‍य पेपर्स की अपेक्षा निबन्‍ध पर यदि थोड़ा-सा भी अतिरिक्‍त ध्‍यान दे देते हैं, तो ऐसा करके आप अपने स्‍कोर को काफी बढ़ा लेंगे.



दरअसल, अभी कोरोना के कारण प्रारंभिक परीक्षा की जो तिथि बढ़ गई है, उसे ही ध्‍यान में रखकर मैं यह बात कह रहा हूँ. यदि आप यह मानकर चल रहे हैं कि निबन्‍ध लिखना कोई मुश्किल काम नहीं है, और परीक्षा हॉल में हम लिख लेंगे, तो आप गलत नहीं सोच रहे हैं. लेकिन आपकी यह सोच आपको अपने दूसरे साथियों से आगे ले जाने में एक बाधा बन सकती है.

निबन्‍ध लिखने के बाद उसे खुद जांचें

आपके पास अभी जो अतिरिक्‍त समय है, उसमें आप निबन्‍ध के लिए कुछ अच्‍छे टॉपिक्‍स चुन लें और उन पर लिखने का अभ्‍यास करें. बेहतर होगा कि निबन्‍ध लिखने के बाद उसे खुद जांचें और देखें कि इसे आप कैसे और बेहतर बना सकते हैं. परीक्षा में बैठने से पहले प्रत्‍येक परीक्षार्थी को कम से कम 20 निबन्‍ध लिखने का अभ्‍यास तो कर ली लेना चाहिए. ऐसा करने से निबन्‍ध में लगभग 140 मार्क्‍स की संभावना सुनिश्चित की जा सकती है. (लेखक डॉ. विजय अग्रवाल पूर्व सिविल सर्वेन्‍ट एवं afeias के संस्‍थापक हैं.)

ये भी पढ़ें-

UP Board Result 2021: 10वीं और 12वीं के रिजल्ट पर आज तक दे सकते हैं अपने

सुझाव

Sarkari Naukri 2021: इन भर्तियों की अंतिम तिथि आज, जल्द करें आवेदन 

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज