बड़ी बात: प्राइवेट स्कूलों पर 1.75 लाख करोड़ रुपये खर्च करते हैं भारतीय, जानिए दिलचस्प आंकड़े

बड़ी बात: प्राइवेट स्कूलों पर 1.75 लाख करोड़ रुपये खर्च करते हैं भारतीय, जानिए दिलचस्प आंकड़े
कोरोना वायरस के चलते पिछले चार महीने से स्कूल बंद हैं.

प्राइवेट स्कूल्स आफ इंडिया सेक्टर रिपोर्ट (Private Schools of India Sector Report) के अनुसार, देश के कुल स्कूली बच्चों में से 47 प्रतिशत प्राइवेट स्कूलों में पढ़ते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 24, 2020, 11:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस के बीच भले ही फिलहाल स्कूलों की पढ़ाई पर काफी हद तक ब्रेक लग गया हो, लेकिन एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि भारतीय प्राइवेट स्कूलों पर मोटी रकम खर्च करते हैं. प्राइवेट स्कूल्स आफ इंडिया सेक्टर रिपोर्ट (Private Schools of India Sector Report) के अनुसार निजी स्कूलों पर भारतीय करीब 1.75 लाख करोड़ रुपये खर्च करते हैं. यहां तक कि देश में पढ़ने वाले कुल बच्चों में से 50 प्रतिशत निजी स्कूलों में पढ़ाई करते हैं.

23 बिलियन डॉलर की इंडस्ट्री
टाइम्सनाउ के अनुसार, रिपोर्ट में बताया गया है कि प्राइवेट स्कूल सेक्टर करीब 23 बिलियन डॉलर का है. इसकी तुलना अगर ई-कॉमर्स से की जाए तो ये इंडस्ट्री 24 बिलियन डॉलर की है. अगर ​प्राइवेट स्कूलिंग में केजी से हायर स्कूलिंग कोचिंग तक सभी कुछ जोड़ लिया जाए तो ये इंडस्ट्री करीब 68 बिलियन डॉलर की हो जाती है.

निजी स्कूल बनाम सरकारी स्कूल
भारत में अलग-अलग स्कूलों में कुल 24 करोड़ 71 लाख 27 हजार 331 स्टूडेंट्स हैं. इन 24 करोड़ में से 8 करोड़ 73 लाख 82 हजार 784 स्टूडेंट्स निजी गैरसहायता प्राप्त स्कूलों में पंजीकृत हैं. वहीं 2.79 करोड़ स्टूडेंट्स एडेड स्कूलों में पंजीकृत हैं. यही आंकड़ा भारत के प्राइवेट स्कूल सेक्टर को दुनिया का तीसरा बड़ा स्कूल सिस्टम बनाता है.



आंकड़ों में समझिए उतार-चढ़ाव
जहां तक बात निजी स्कूलों को लेकर बढ़ती दिलचस्पी की है तो रिपोर्ट के अनुसार, साल 1993 में 9.2 प्रतिशत बच्चे निजी स्कूलों में पढ़ रहे थे और 2017 तक ये आंकड़ा तेजी से बढ़कर 34.8 फीसदी तक पहुंच गया. वहीं सरकारी स्कूलों से इसकी तुलना करें तो इसमें भारी गिरावट देखने को मिली. सरकारी स्कूलों में 1993 में 70.8 प्रतिशत बच्चे पढ़ते थे लेकिन ये आंकड़ा 2017 तक आते-आते 52.5 प्र​तिशत तक सिमटकर रह गया.

ये भी पढ़ें
देशभर की यूनिवर्सिटीज में फाइनल ईयर एग्जाम रद्द होंगे? पढ़ें SC का जवाब
Govt Job: 12वीं पास के ल‍िए द‍िल्‍ली पुल‍िस में बंपर वैकेंसी, जानिए सैलरी

सरकारी स्कूलों पर निजी स्कूलों को तरजीह क्यों
इस बारे में निजी स्कूलों को चुनने वाले 12 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्होंने इंग्लिश मीडियम एजुकेशन को तरजीह दी तो 10.2 फीसदी लोगों ने निजी स्कूल घर के पास होने का हवाला दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading