JEE Exam पर दुनिया के बड़े प्रोफेसर ने जताई हैरानी बोले-एक घंटे में क्रैक करना मुश्‍किल

News18Hindi
Updated: July 10, 2019, 12:45 PM IST
JEE Exam पर दुनिया के बड़े प्रोफेसर ने जताई हैरानी बोले-एक घंटे में क्रैक करना मुश्‍किल
Dr. Jasmina Lazendic-Galloway

JEE की परीक्षा देश की सबसे प्रतिष्‍ठित और मुश्‍किल परीक्षाओं में एक हैं. हर साल लाखों की संख्‍या स्‍टूडेंट्स इस एग्‍जाम में बैठते हैं और चुनिंदा लोगों को ही इसमें कामयाबी मिल पाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 10, 2019, 12:45 PM IST
  • Share this:
JEE की परीक्षा देश की सबसे प्रतिष्‍ठित और मुश्‍किल परीक्षाओं में एक हैं. हर साल लाखों की संख्‍या स्‍टूडेंट्स इस एग्‍जाम में बैठते हैं और चुनिंदा लोगों को ही इसमें कामयाबी मिल पाती है. वहीं अब सबसे कठिन एग्‍जाम  के बारे में सात समंदर पार यानी कि आस्‍ट्रेलिया के कुछ प्रोफेसर ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है. इन प्रोफेसर का मानना है कि जेईई का पेपर बेहद कठिन है और इसे एक घंटे में तो हल करना लगभग नामुमिकन है.

इसके बार में एक मैथमैटिशियन बैरी ह्यूजेस (Prof. Barry Hughes) कहते हैं, मैथ्‍स का पेपर देख रहा हूं लेकिन मैं एक बतौर मैथ्‍स के प्रोफेसर तौर पर कहना चाहता हूं कि ये पेपर बेहद कठिन है और केवल एक घंटे में उचित परिणाम नहीं मिल सकता.

वहीं इस बारे में डॉ.जैस्मिना लाज़ेंदिक-गैलोवे ने भी इस एग्‍जाम को बेहद कठिन बताया. उन्‍होंने कहा कि इस परीक्षा को अंटेड करने के लिए जरूरी है कि स्‍टूडेंट्स को समय दिया जाए लेकिन अगर आपके पास सीमित संसाधन हैं और छात्रों की संख्‍या ज्‍यादा हो तो उन्‍हें प्रैक्‍टिस कर पाना मुश्‍किल  होता है, जो कि इतने सीमित संसाधन में संभव नहीं है. वहीं आपको अंदाजा भी नहीं लग पाता कि स्‍टूडेंट्स अगले चरण में कैसा परफॉर्म करेंगे.

गौरतलब है कि JEE मेन एग्‍जाम के तहत देश के 23 इंडियन इंस्‍ट्टीयूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी, 23 इंडियन इंस्‍ट्टीयूट ऑफ इनफॉर्मेशन टेक्‍नॉलाजी,31 नेशनल इंस्‍ट्टीयूट ऑफ टेक्‍नॉलाजी और 20 गवर्नमेंट फंडेड टेक्‍निकल इंस्‍ट्टीयूट में दाखिला लिया जाता है.

यह भी पढ़ें: 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 10, 2019, 11:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...