JEE Main 2020: खराब शुरुआत के बावजूद भी जेईई में शामिल हुए 81 फीसदी स्टूडेंट

JEE Main 2020: खराब शुरुआत के बावजूद भी जेईई में शामिल हुए 81 फीसदी स्टूडेंट
जेईई मेन परीक्षा में छात्रों की संख्या काफी रही.

JEE Main 2020: परीक्षा सुबह के स्लॉट में 9 बजे से 12 बजे के बीच और शाम की स्लॉट में 3 बजे से 12 बजे के बीच होनी है. कुल छात्रों में से 2, 82, 592 छात्रों ने परीक्षा दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 9:02 AM IST
  • Share this:
JEE Main 2020: काफी दिनों से जेईई मेन परीक्षा करवाए जाने को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे. हालांकि, साथ ही यह भी बात कही जा रही थी कि काफी स्टूडेंट्स परीक्षा देना चाहते हैं. लेकिन गुरुवार को हुई परीक्षा में कैंडीडेट्स की उपस्थिति 80 फीसदी रही. हालांकि, इसकी पहले छात्रों की उपस्थिति थोड़ा कम रही थी. पहले दिन कुल 51 फीसदी ही थी.

दो शिफ्ट में होगी परीक्षा
2 और 3 सितंबर को 3, 46, 372 कैंडीडेट्स को परीक्षा देनी थी. परीक्षा सुबह के स्लॉट में 9 बजे से 12 बजे के बीच और शाम की स्लॉट में 3 बजे से 12 बजे के बीच होनी है. कुल छात्रों में से 2, 82, 592 छात्रों ने परीक्षा दी.

7.46 लाख कैंडीडेट्स कर चुके हैं अप्लाई
हालांकि, इन सबके बीच पहले दिन कम छात्रों की उपस्थिति होने के पीछे एक्स्पर्ट्स का कुछ और ही कहना है. एक्स्पर्ट्स के मुताबिक चूंकि पहले दिन बी. आर्क और बी. प्लानिंग के लिए परीक्षा थी इसलिए पहले दिन उपस्थिति कम थी. बीई और बीटेक के लिए प्रवेश परीक्षा 2 सितंबर से शुरू की गई थी और 6 सितंबर तक के लिए चलेगी. कुल 8.67 रजिस्ट्रेशन में से अब तक 7.46 लाख कैंडीडेट्स अप्लाई कर चुके हैं.



सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंचा मामला
परीक्षा करवाने को लेकर राज्यों द्वारा तमाम तरह की चिंताए जाहिर की गई थीं. हालांकि, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने कहा कि अब इससे ज्यादा परीक्षा को रोका नहीं जा सकता. मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच गया लेकिन वहां पर इस याचिका को खारिज कर दिया गया.

ये भी पढ़ें-
COVID-19 डर के साथ हुआ JEE-Main Exam, इन एहतियात के साथ परीक्षा के लिए उपस्थित हुए अभ्यर्थी
SLPRB असम पुलिस SI एडमिट कार्ड आज होगा जारी, चेक करें एग्जाम डिटेल


गैर-बीजेपी राज्यों ने भी किया था विरोध
इसके बाद मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया जब 6 गैर-बीजेपी राज्यों के मुख्यमंत्री केंद्र सरकार के फैसले के विरुद्ध आ गए. इसके बाद कोर्ट में पुनर्विचार याचिका डाली गई. माना जा रहा है कि करीब डेढ़ लाख स्टूडेंट इस परीक्षा में शामिल होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज