JEE Main 2020: जानें कब जारी हो सकती कटऑफ लिस्‍ट और किस आधार पर होगी तैयार

JEE Main 2020: जानें कब जारी हो सकती कटऑफ लिस्‍ट और किस आधार पर होगी तैयार
जेईई मेन की परीक्षा 6 स‍ितंबर 2020 तक जारी रहेगी.

JEE Main 2020: जानिये इस बार अपेक्षित कट-ऑफ क्‍या हो सकता है और इसकी गणना कैसे की जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 6:33 AM IST
  • Share this:
JEE Main 2020: जेईई मुख्‍य परीक्षा 2020 का आयोजन जारी है और यह 6 सितंबर 2020 तक चलेगी. हालांकि कई राज्‍य चाहते थे कि इस साथ जेईई मुख्‍य परीक्षा को रद्द कर दिया जाए, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यह स्‍पष्‍ट हो गया कि ना केवल जेईई मुख्‍य परीक्षा, बल्‍क‍ि मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिये होने NEET परीक्षा का आयोजन भी होगा. JEE Main 2020 परीक्षा में शामिल होने वाले उम्‍मीदवारों को परीक्षा देने के बाद इसके कटऑफ लिस्‍ट का इंतजार होगा. ऐसे में बता दें कि राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) संभवत: 11 सितंबर को परिणामों के साथ-साथ जेईई मेन कट-ऑफ 2020 भी जारी कर देगी.

दरअसल, कटऑफ लिस्‍ट से यह स्‍पष्‍ट हो जाता है कि छात्र ने JEE Main परीक्षा क्‍वालिफाई कर लिया है या नहीं. परीक्षा में JEE Main cut-off के बराबर या उससे ज्‍यादा पर्सेंटाइल लाने वाले छात्रों को क्‍वालिफाई माना जाता है. NTA अपनी कटऑफ लिस्‍ट ( JEE Main cut-off) श्रेणी के अनुसार जारी करती है. मसलन, जनरल, OBC – NCL, SC, ST, PwD और EWS के आधार पर. कटऑफ में आने वाले छात्रों को NITs, IIITs, GFTIs जैसे संस्‍थानों में दाखिला प्राप्‍त होता है और सबसे महत्‍वपूर्ण बात यह है कि वह जेईई एडवांस (JEE Advanced) में बैठने के लिये योग्‍य माने जाते हैं.

JEE Main Cutoff – इस आधार पर तय होंगे कटऑफ
NTA विभिन्‍न कारकों को ध्‍यान में रखते हुए JEE Main cut-off तय करती है. हर साल के लिये कटऑफ अलग जारी किए जाते हैं. मुख्‍य रूप से, कटऑफ का स्‍तर इस बात पर तय होता है कि परीक्षा देने वाले उम्‍मीदवारों की संख्‍या क्‍या रही, एडमिशन के लिये कितने सीट मौजूद हैं और परीक्षा का डिफिकल्‍टी लेवल यानी वह कितना मुश्‍क‍िल या आसान था. यहां दिए गए पांच फैक्‍टर्स हैं, जिनके आधार पर JEE Main cut-off लिस्‍ट तैयारी की जाती है.
1. जेईई मुख्‍य परीक्षा (JEE Main) के लिये आवेदन करने वाले उम्‍मीदवारों की संख्‍या.


2. JEE Main का डिफिकल्‍टी लेवल क्‍या था.
3. एडमिशन के लिये सीटों की उपलब्‍धता या सीटों की संख्‍या.
4. जिन श्रेणियों में दाखिले होने हैं, उनमें सीटों और उम्‍मीदवारों की संख्‍या.
5. पिछले वर्षों के कटऑफ ट्रेंड्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज