JEE mains-2021 Topper: 100% अंक लाने वाली टॉपर काव्या ने दी ये सीख, 8वीं से शुरू कर दी थी तैयारी

आईएएस अधिकारी विक्रम सिंह ऑप्शनल सब्जेक्ट की तैयारी के लिए ग्रुप स्टडी की सलाह देते हैं.

आईएएस अधिकारी विक्रम सिंह ऑप्शनल सब्जेक्ट की तैयारी के लिए ग्रुप स्टडी की सलाह देते हैं.

JEE mains-2021 Topper: जेईई मेन-2021 के मार्च सत्र में काव्या चोपड़ा 300 में से 300 अंक हासिल करने वाली पहली छात्रा हैं. उन्होंने बताया कि उन्हें केमिस्ट्री अधिक परेशान करती थी. इसलिए इस पर विशेष ध्यान दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 3:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जेईई मेन-2021 के मार्च सत्र की परीक्षा में दिल्ली की काव्या चोपड़ा 100% पाने वाली पहली छात्रा बनी थीं. उन्होंने 300 में से 300 अंक हासिल किए थे. काव्या का मानना है कि परीक्षा पास करने से ज्यादा जरूरी है उसके प्रोसेस को एंजॉय करना. काव्या ने एक अखबार के साथ बातचीत में बताया कि उन्होंने आठवीं कक्षा से ही शुरू कर दी थी. उन्होंने 8वीं में फिटजी इंस्टीट्यूट कोचिंग ज्वाइन कर लिया था. हालांकि आईआईटी में जाने का लक्ष्य 11वीं में पहुंचकर निर्धारित किया.

काव्या बताती हैं कि वह स्कूल के बाद करीब सात से आठ घंटे की पढ़ाई करती थीं पर उनका कोई तय शेड्यूल नहीं हुआ करता था. लेकिन वह प्रतिदिन की पढ़ाई का एक टार्गेट जरूर सेट कर लेती थीं. कई बार टार्गेट जल्दी पूरा हो जाता था. काव्या ने बातचीत में बताया कि उन्हें केमिस्ट्री अधिक परेशान करती थी. जेईई की तैयारी के लिए कोचिंग की जाए या नहीं, यह बात कई छात्र तय नहीं कर पाते. इस पर काव्या का मानना है कि कोचिंग इंस्टीट्यूट एक रास्ता दिखाते हैं. सेल्फ स्टडी करने के लिए खुद को विशेष रूप से तैयार करना होता है. कुछ मुश्किलें भी आती हैं.

कंप्यूटर साइंस को इसलिए मानती हैं बेहतर

जेईई एडवांस परीक्षा पास करने के बाद काव्या का लक्ष्य आईआईटी बॉम्बे या आईआईटी दिल्ली में एडमिशन लेना है. वह कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग करना चाहती हैं. वह कहत हैं कि उन्होंने अपने रिसर्च और एनालिसिस में पाया है कि कंप्यूटर साइंस मैथ्स के लिहाज से अच्छा है. यह फाइनेंशियली सिक्योर्ड विकल्प भी है. वह फिलहाल इंजीनियरिंग ही करना चाहती हैं. हालांकि उन्होंने आगे रिसर्च फील्ड में जाने का विकल्प भी खुला रखा है.
जेईई-मेन में 99. 98% अंक लाने का लक्ष्य

काव्या ने मार्च सत्र के अलावा फरवरी सत्र में भी जेईई मेन परीक्षा दी थी. इसमें उन्होंने 99.97% अंक हासिल किए थे. काव्या का कहना है कि उनका हमेशा से ही लक्ष्य 99.98% अंक लाने का था. इसलिए उन्होंने मार्च सत्र की भी परीक्षा दी थी. काव्या ने बताया कि फरवरी सत्र की परीक्षा में उन्होंने अपना ज्यादा ध्यान फिजिक्स और केमिस्ट्री विषयों पर केंद्रित किया था.इसके बावजूद केमिस्ट्री विषय में कम अंक आए. इसके बाद उन्होंने एनालाइज किया कि किस टॉपिक या प्रश्न में गलती हुई है. इसके बाद अगले 15 दिन केमिस्ट्री की कमजोरियों पर ही पूरा फोकस किया.

ये भी पढ़ें-



Latest Government Jobs: 8वीं पास से ग्रेजुएट्स तक के लिए सरकारी नौकरियां, तुरंत करें आवेदन

झारखंड में मैट्रिक और इंटर की परीक्षाएं 4 मई से, सभी केंद्रों पर नोडल पदाधिकारी नियुक्त

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज