Jharkhand Board 10th Result 2020: रिजल्ट जारी होने के साथ ही टूटा पिछले 5 साल का रिकॉर्ड

Jharkhand Board 10th Result 2020: रिजल्ट जारी होने के साथ ही टूटा पिछले 5 साल का रिकॉर्ड
झारखंड बोर्ड का पिछले साल का रिकॉर्ड टूट गया है.

Jharkhand Board 10th Result 2020:  साल 2015 से लेकर 2018 तक रिजल्ट के पास प्रतिशत में लगातार कमी आती रही. साल 2018 में यह घटकर सिर्फ 59.56 फीसदी ही रह गया. इसके बाद पिछले साल यानी 2019 में कुछ सुधार हुआ

  • Share this:
नई दिल्ली. झारखंड बोर्ड ने 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है. इस बार कुल 75.01 फीसदी रिजल्ट रहा. इस बार मैट्रिक में करीब 3 लाख 85 हजार छात्र शामिल हुए थे. लड़के और लड़कियों के पास प्रतिशत की बात करें तो इस बार फिर लड़कों ने बाजी मारी है. लड़कों का पास प्रतिशत 75.88 फीसदी रहा जबकि लड़कियों का पास प्रतिशत कुल 74.25 फीसदी ही रहा. हालांकि, संख्या में लड़कियां ज्यादा पास हुई हैं. वहीं डिवीज़न की बात करें तो इस बार 52 फीसदी फर्स्ट, 42 फीसदी सेकेंड और मात्र 6 फीसदी छात्र थर्ड डिवीज़न पास हुए हैं.

झारखंड बोर्ड रिजल्ट से जुड़ी जानकारी सबसे पहले पाने के लिए यहां रजिस्टर करें-

पिछले पांच सालों में टूटा ये रिकॉर्ड
लेकिन इन सबके बीच एक बात इस साल ऐसी भी हुई है जो पिछले पांच सालों में नहीं हुई. इस बार पिछले पांच सालों की तुलना में सबसे ज्यादा छात्र पास हुए हैं. साल 2015 में 71.20%, 2016 में 67.54%, 2017 में 67.83%, 2018 में 59.56% और 2019 में यानी कि पिछले साल 70.81 फीसदी छात्र-छात्राएं पास हुए थे. इस तरह से इस साल का पास प्रतिशत पिछले पांच सालों में सबसे ज्यादा रहा है. साल 2015 से लेकर 2018 तक रिजल्ट के पास प्रतिशत में लगातार कमी आती रही. साल 2018 में यह घटकर सिर्फ 59.56 फीसदी ही रह गया. इसके बाद पिछले साल यानी 2019 में कुछ सुधार हुआ जिसके बाद रिजल्ट 70.81 फीसदी आया. वही रिजल्ट में सुधार की प्रक्रिया इस साल भी जारी रही और इस साल का रिजल्ट 75.01 फीसदी रहा.



ये भी पढ़ेंः

झारखंड बोर्ड दसवीं का रिजल्ट घोषित, jacresults.com पर करें चेक
Jharkhand Board 10th Result: झारखंड बोर्ड 10वीं का रिजल्ट इन वेबसाइट पर देखें


महीने के अंत में जारी होगा 12वीं का रिजल्ट
अनुमान है कि 12वीं का रिजल्ट महीने के अंत तक जारी किया जाएगा. 12वीं की कॉपियों की जांच 28 मई से शुरू की गई है. 12वीं कक्षा में करीब 2.8 लाख छात्रों ने हिस्सा लिया था. काउंसिल ने इंटरमीडिएट परीक्षाओं का आखिरी पेपर 27 मार्च को लॉकडाउन लागू होने के बाद आयोजित किया था. लॉकडाउन का ऐलान 25 मार्च से किया गया था. पिछले साल, कुल 70.77 प्रतिशत छात्रों ने सफलतापूर्वक परीक्षा पास की थी, जबकि 57 प्रतिशत ने इंटरमीडिएट परीक्षा पास की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading