Jharkhand Education : राज्यपाल मुर्मू ने दिए ऑनलाइन क्लासेज पर ये सुझाव

राज्यपाल ने कोरोना महामारी के जन-जीवन पर पड़े प्रभाव पर भी चिंता जताई

Jharkhand Education : झारखंड की राज्यपाल ने शिक्षकों को सुझाव दिया है कि वह छात्रों के लिए अपने लेक्चर यूट्यूब जैसे प्लेटफॉर्म पर भी अपलोड करें. साथ में वॉट्सएप ग्रुप बनाकर छात्रों का मार्गदर्शन करें.

  • Share this:
रांची. झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. राम लखन सिंह ने राज भवन में मुलाकात की. इस दौरान राज्यपाल ने विश्वविद्यालय की शैक्षणिक एवं प्रशासनिक गतिविधियों की समीक्षा की. राज्यपाल ने कहा कि कोरोना की वैश्विक महामारी की वजह से छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है. ऐसे में शिक्षकों को चाहिए कि वह छात्रेां का निरंतर मार्गदर्शन करते रहें. राज्यपाल ने कहा कि शिक्षकों को अपने लेक्चर यूट्यूब आदि प्लेटफॉर्म पर भी अपलोड करने चाहिए. इसके अलावा, शिक्षक वॉट्सएप ग्रुप बनाकर भी छात्रों का मार्गदर्शन कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले छात्रों की मदद के तरीके के बारे में भी सोचना होगा.

इस मौके पर राज्यपाल मुर्मू ने श्री दिगंबर जैन विश्वविद्यालय, झुमरी तिलैया द्वारा शुरू किए जा रहे नि:शुल्क ऑनलाइन क्लास पर भी प्रसन्नता जताई. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की नि:शुल्क ऑनलाइन क्लास का उद्घाटन करते खुशी हो रही है. उन्होंने कहा कि महामारी के कारण शिक्षण संस्थान बंद हैं. छात्रों की पढ़ाई का नुकसान हो रहा है. ऐसे में उनके मार्गदर्शन के लिए ऑनलाइन क्लास एक विकल्प के रूप में दिखता है.

निजी विश्वविद्यालय समझें गरीब अभिभावकों की मुश्किलें 

राज्यपाल ने कहा, सुनने में आ रहा है कि निजी विश्वविद्यालय ऑनलाइन क्लास के लिए शुल्क ले रहे हैं. विश्वविद्यालयों को भी अपने स्टाफ को सैलरी देनी है. लेकिन साथ में उन्हें आर्थिक रूप से कमजोर अभिभावकों की मुश्किलें और मजबूरियां भी समझनी चाहिए. राज्यपाल ने कोरोना महामारी के जन-जीवन पर पड़े प्रभाव पर भी चिंता जताई. उन्होंने कहा कि कोरोना का प्रसार रोकना एक बड़ी चुनौती है. इसलिए हमें टेस्टिंग, वैक्सिनेशन के साथ सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क को अपने व्यवहार में शामिल करना है.

छोटे बच्चों की ऑनलाइन क्लास पर दिए ये सुझाव

राज्यपाल मुर्मू ने यह भी सुझाव दिया कि छोटे बच्चों के स्कूल ऑनलाइन क्लास में सहजता के लिए अभिभावकों से सलाह ले सकते हैं. ऐसे समय में ऑनलाइन क्लास न लें जिस वक्त अभिभावक मौजूद नहीं रहें. उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थिति में एक तरह से एक्सपेरिमेंट से भी गुजर रहे हैं. ऐसे में नर्सरी और यूकेजी जैसी कक्षाओं के शिक्षकों को बदलना उचित नहीं है. पिछले सत्र में जो शिक्षक पढ़ा रहे थे, वही आगे भी रह सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि छोटे बच्चे उनसे अच्छी तरह परिचित हो गए हैं.

ये भी पढ़ें-

MP Board Result 2021: 12 से अधिक बार हुई बैठकें फिर भी तय नहीं हुआ रिजल्ट का फार्मूला

Bihar STET Result : बिहार एसटीईटी पास करने वाले सभी की नौकरी पक्की, 6794 सीटें रह गई खाली

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.