गार्ड ने पास किया JNU का एंट्रेस एग्‍जाम, बनना चाहता है IAS अध‍िकारी

जेएनयू के सिक्‍योरिटी गार्ड के रूप में तैनात राजमल मीना ने यहां की प्रवेश परीक्षा पास कर ली है. राजमल अब यहां बीए रूस ऑनर्स में एडमिशन लेंगे.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 2:55 PM IST
गार्ड ने पास किया JNU का एंट्रेस एग्‍जाम, बनना चाहता है IAS अध‍िकारी
जेएनयू के गार्ड ने पास किया एंट्रेस एग्‍जाम, UPSC क्रैक करना है लक्ष्‍य
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 2:55 PM IST
देश के सबसे प्रतिष्‍ठित संस्‍थान में शुमार जवाहर लाल यूनिवर्सिटी (JNU) से पढ़ाई करना ज्‍यादातर स्‍टूडेंट्स का ख्‍वाब होता है. अधिकतर छात्र-छात्राएं चाहते हैं कि उनको इस संस्‍थान में दाखिला मिल जाए. हालांकि हजारों में कुछ लोगों का ये सपना पूरा हो जाता है, जबकि कुछ ऐसे भी होते हैं, जो यहां की प्रवेश परीक्षा में चूक जाते हैं. लेकिन इन सबके बीच में एक ऐसे शख्‍स ने ये प्रवेश परीक्षा पास की है, जो एक छात्र नहीं है, बल्‍कि इसी संस्‍थान में कार्यरत गार्ड है. जी हां जेएनयू के सिक्‍योरिटी गार्ड के रूप में तैनात राजमल मीना ने यहां की प्रवेश परीक्षा पास कर ली है. राजमल ने यहां बीए रूस ऑनर्स प्रोगाम की प्रवेश परीक्षा पास की है. अब वे यहां स्‍टूडेंट बनकर पढ़ाई करेंगे.

मजदूर का बेटा: 

राजस्‍थान के भजेरा गांव से ताल्‍लुक रखने वाले राजमल एक मजदूर के बेटे हैं. हालांकि वे पढ़ाई नहीं कर पाए, क्‍योंकि उनके घर के सबसे पास स्‍कूल की दूरी 28 से 30 किलोमीटर थी. इसलिए वे पढ़ाई नहीं कर सकें. इस बारे में मीडिया से बात करते हुए राजमल ने बताया कि, मैं जब साल 2014 में जेएनयू आया था तो यहां पढ़ाई का माहौल देखकर बहुत प्रभावित हुआ था. इसके बाद से मैंने यहां पढ़ने के बारे में सोचने लगा था.

इसके बाद मैंने अपने फोन में कई एजुकेशन ऐप इंस्‍टॉल किए. इस पर मैं उन पर करेंट अफेयरर्स पढ़ने लगा था. लगभग हर दिन मैं करीब चार घंटे रोज अपनी पढ़ाई पर खर्च करता था. आज खुश हूं कि मेरी मेहनत रंग लाई है. हालांकि अभी मैं सिविल सर्विस की भी तैयारी कर रहा हूं. ये नहीं जानता हूं कि भविष्‍य में मेरी ये तैयारी क्‍या मोड़ लेगी लेकिन फिर भी मैं कोशिश करूंगा. साथ ही जेएनयू में पढ़ाई का माहौल देखकर मैं हमेशा सोचता हूं कि मेरे बच्‍चे भी यहीं पढ़ाई करे. अभी तो वे बेटी नौंवी की पढ़ाई कर रही है, जबकि दूसरा बच्‍चा चौथी कक्षा में पढ़ता है. मैं चाहता हूं कि भिवष्‍य में दोनों इसी कैंपस से पढ़ाई करें. मेरी इस सफलता पर कॉलेज के प्रोफेसर भी मुझे बधाई दे रहे हैं. साथ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें:

इस स्कूल में फीस की बजाय कचरा लेकर जाते हैं बच्चे

अब दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ाई जाएगी मैथिली भाषा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 5:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...