लाइव टीवी

परीक्षा में भाग नहीं लेने वाले छात्रों की छात्रवृत्‍त‍ि समाप्‍त कर दी जाएगी- जेएनयू

News18Hindi
Updated: December 4, 2019, 11:02 AM IST
परीक्षा में भाग नहीं लेने वाले छात्रों की छात्रवृत्‍त‍ि समाप्‍त कर दी जाएगी- जेएनयू
जेएनयू ने उन स्‍टूडेंट्स के ल‍िये सर्कुलर जारी क‍िया है, जो परीक्षा का बह‍िष्‍कार करने की योजना बना रहे हैं.

यूनिवर्सिटी ने कहा है क‍ि JNU के एकेडम‍िक ऑर्ड‍िनेंस के अनुसार जो छात्र परीक्षा में ह‍िस्‍सा नहीं लेंगे, उनकी छावृत्ति खत्‍म कर दी जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 4, 2019, 11:02 AM IST
  • Share this:
नई द‍िल्‍ली: होस्‍टल फीस में हुई बढ़ोतरी को लेकर जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्‍टूडेंट्स यूनियन (JNUSU) के छात्र इसके विरोध में 12 दिसंबर से होने वाली सेमेस्टर परीक्षाओं का बहिष्कार करने की योजना बना रहे हैं. ऐसे में, JNU ने छात्रों पर कड़ा रुख अपनाते हुए एक सर्कुलर जारी कर कहा है क‍ि जो छात्र परीक्षा में भाग नहीं लेंगे, उनकी छात्रवृत्‍त‍ि समाप्‍त कर दी जाएगी और साथ ही उनका नाम नामांकन सूची से भी हटा द‍िया जाएगा.

यूनिवर्सिटी ने जो सर्कुलर जारी क‍िया है, उसमें स्‍पष्‍ट कहा गया है क‍ि अकादमिक नियमों के अनुसार परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं और जो भी छात्र जेएनयू की परीक्षा में भाग नहीं लेंगे उनकी स्‍टूडेंटश‍िप खत्‍म कर दी जाएगी. सर्कुलर में यह भी कहा गया है क‍ि परीक्षा में ना बैठने वाले छात्र अगले सेमेस्टर में पंजीकृत होने के लिए अयोग्य माने जाएंगे.

वहीं शोध के छात्रों के ल‍िये भी कहा गया है क‍ि अगर एमफिल के छात्र सेकेंड सेमेस्‍टर के अंत में पाठ्यक्रम के काम को पूरा करने में असमर्थ रहते हैं और 31 दिसंबर तक अपनी थीसिस जमा नहीं कर पाते हैं तो उनका नाम नामांकन सूची से हटा द‍िया जाएगा.

दरअसल, अकादमिक अध्यादेश के क्लॉज-7 के मुताबिक हर एमफिल करने वाले छात्र को अपना 50 प्रतिशत पाठ्यक्रम पूरा करना होता है और उसे 5 सीजीपीए लाना होता है. अगर ऐसा करने में छात्र सफल नहीं हो पाता है तो उसे क्लॉज-8 के मुताबिक दूसरे सेमेस्टर के अंत में नामांकन सूची से बाहर न‍िकाल द‍िया जाता है.

बता दें क‍ि एक महीने से होस्‍टल फीस को लेकर JNUSU व‍िरोध जता रहा कर रहे हैं. फीस बढ़ोतरी को लेकर छात्र परीक्षा का बहिष्‍कार करने की योजना बना रहे हैं.

दूसरी ओर यूनिवर्सिटी ने सर्कुलर जारी कर यह स्‍पष्‍ट कर द‍िया है क‍ि यूनिवर्सिटी के अकादमिक कैलेंडर को एकेडमिक आउंसिल और एक्‍ज‍िक्‍यूट‍िव काउंसिल की स्‍वीकृति से बनाया गया है. इसलिये इसके नियमों का पालन कड़ाई से होगा.

यह भी पढ़ें:
Loading...

DUTA Strike Updates: DUTA की अनिश्चितकालीन हड़ताल से प्रभावित हो सकते हैं DU एग्जाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 10:36 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...