Home /News /career /

लीडरशिप सीखने के लिए जेएनयू ने लिया रामायण का सहारा, शुरू हुआ विवाद

लीडरशिप सीखने के लिए जेएनयू ने लिया रामायण का सहारा, शुरू हुआ विवाद

लीडरशिप की कला सीखने के लिए 2 और 3 मई को जेएनयू कैंपस में शाम 4 बजे से 6 बजे तक विशेष सत्र का आयोजित किया जाएगा.

लीडरशिप की कला सीखने के लिए 2 और 3 मई को जेएनयू कैंपस में शाम 4 बजे से 6 बजे तक विशेष सत्र का आयोजित किया जाएगा.

जेएनयू अपने स्टूडेंट्स को लीडरशिप सिखाने के लिए 2 और 3 मई को रामायण की नेतृत्व क्षमता पर एक सेमिनार आयोजित कर रहा है. इसे स्कूल ऑफ संस्कृत एंड इण्डिक स्टडीज के प्रोफेसर संतोष कुमार शुक्ला और स्कूल ऑफ लैंग्वेज, लिटरेचर एंड कल्चरल स्टडीज के प्रोफेसर मजहर आसिफ के नेतृत्व में किया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में रामायण पर विशेष सत्र आयोजित होगा. खास बात यह है कि रामायण से लीडरशिप की कला सीखने के लिए 2 और 3 मई को जेएनयू कैंपस में शाम 4 बजे से 6 बजे तक विशेष सत्र का आयोजित किया जाएगा. इसके बारे में जेएनयू के वीसी एम. जगदीश कुमार ने ट्वीट करके जानकारी दी है.

    जेएनयू के वीसी एम. जगदीश कुमार ने बताया कि "रामायण से नेतृत्व का गुण सीखने के लिए एक वेबिनार की जरूरत इसीलिए है क्योंकि महात्मा गांधी ने खुद कहा था कि भगवान राम से महान कोई नहीं है. राम निराकार हैं और समय से परे हैं. गांधी जी ने यह बात कही थी. गांधी जी ने कहा था कि भगवान राम ने सत्य, न्याय और समानता को मुश्किल परिस्थिति में अपनाने के लिए प्रेरित करते हैं. प्रो. एम. जगदीश ने कहा कि हम इस कोरोना के संकटकाल में रामायण से बहुत कुछ सीख सकते हैं.



    ZOOM ऐप के माध्यम से आयोजित होगा सेमिनार
    देश में लॉकडाउन चल रहा है इसलिए जेएनयू में यह कार्यक्रम ZOOM ऐप के माध्यम से आयोजित किया जाएगा. तकनीक के द्वारा बहुत सारे लोग इस चर्चा में जुड़ सकेंगे. यह प्रोग्राम लाइव होगा, जिससे कि छात्र आसानी से इस कार्यक्रम में भाग ले सकें. इस कार्यक्रम का आयोजन जेएनयू में स्कूल ऑफ संस्कृत एंड इण्डिक स्टडीज के प्रोफेसर संतोष कुमार शुक्ला और स्कूल ऑफ लैंग्वेज, लिटरेचर एंड कल्चरल स्टडीज के प्रोफेसर मजहर आसिफ के नेतृत्व में किया जा रहा है.

    आपको इस कार्यक्रम में जुडने के लिए ये काम करना होगा
    - सबसे पहले आपको इस लिंक पर क्लिक करना होगा.
    - इसके बाद यहां आपको अपनी डिटेल भरनी होगी और सब्मिट करना होगा.
    - अब आपके सामने एक स्क्रीन आएगी, जिसमें आपको यूनिवर्सिटी, इंस्टीट्यूशन आदि भरना होगा.
    - सारी डिटेल भरने के बाद सब्मिट कर दें.
    - इसके बाद आपकी मेल में जूम मीटिंग का आईडी और पासवर्ड आ जाएगा. जिसकी सहायता से आप शाम 4 से 6 बजे तक कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं.

    एनएसयूआई ने किया विरोध
    जेएनयू प्रशासन के इस सेमिनार का एनएसयूआई ने विरोध किया है. उसका कहना है कि देश कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है, ऐसे में चर्चा कोरोना पर होनी चाहिए. रामायण और लीडरशिप पर नहीं. एनएसयूआई ने इसे केंद्र सरकार और जेएनयू के वीसी की मिली भगत बताया है. इस कार्यक्रम को एक तरह का प्रोपेगेंड़ा बताया है.

    ये भी पढ़ें- 12वीं परीक्षा की आंसर की जारी, उम्मीदवार ऐसे कर सकते हैं अपने नंबर का मिलान

    Tags: 10 top universities, Corona, Jnu, JNU violence, Kanhayya, Online education, Ramayan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर