Kargil Vijay Diwas 2019: इस साल कैसे मनाया जाएगा करग‍िल व‍िजय द‍िवस, जानें

Kargil Vijay Diwas 2019:  करग‍ि‍ल व‍िजय द‍िवस के 20 साल पूरे हो गए हैं. इसे हम क्‍यों मनाते हैं और कैसे मनाते हैं इसके बारे में यहां जान‍िये.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 10:23 AM IST
Kargil Vijay Diwas 2019: इस साल कैसे मनाया जाएगा करग‍िल व‍िजय द‍िवस, जानें
4 जुलाई 1999 को भारतीय सेना ने टाइगर हिल पर कब्ज़ा किया था.
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 10:23 AM IST
Kargil Vijay Diwas 2019: इस साल 26 जुलाई 2019 को भारत, पाकिस्तानी सैनिकों की घुसपैठ के खिलाफ 'ऑपरेशन विजय' में भारतीय सशस्त्र बलों की जीत की 20वीं वर्षगांठ मना रहा है. यह दिवस हर साल सशस्त्र बलों के बहादुर सैनिकों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता दिखाने के लिये मनाया जाता है, जिन्होंने पाकिस्तान सेना द्वारा जब्त भारतीय हिस्‍से पर फिर से कब्जा करने के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया. हालांकि इस दिन को हर साल पूरे देश में मनाया जाता है, लेकिन दिल्‍ली के इंडिया गेट स्‍थ‍ित अमर जवान ज्‍योति और द्रास-करगिल सेक्‍टर में मौजूद सेना में जिस जोश के साथ इस दिन को मनाया जाता है, वह देखने वाला होता है. यह भी पढ़ें: करगिल युद्ध के दौरान सैनिकों से मिलने गए थे मोदी, शेयर की युद्ध के समय की तस्वीरें

इतिहास:
दोनों प्रतिद्वंद्वी देशों द्वारा परमाणु हथियारों का सफलतापूर्वक परीक्षण किए जाने के बाद बढ़े तनाव के बीच, साल 1999 का लाहौर समझौता हुआ. इसमें दोनों देश पारस्परिक रूप से कश्मीर मुद्दे को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने के लिए सहमत हुए थे. हालांकि साल 1998 की सर्द‍ियों से ही पाकिस्‍तानी सेना ने ऑपरेशन बद्र शुरू कर दिया था. इस ऑपरेशन का लक्ष्‍य भारतीय सीमा में घुसकर भारतीय सैनिकों को सियाचीन में पीछे हटाने को मजबूर करना था और पाकिस्‍तानी सेना ऐसा करने में कुछ हद तक कामयाब भी हो गई. उसने 130 से 200 स्‍क्‍वेयर किलोमीटर का क्षेत्र अपने कब्‍जे में ले लिया.

इसके जवाब में भारत ने 2 लाख सैनिकों के साथ ऑपरेशन विजय शुरू किया और उन सभी स्‍थानों पर दोबारा अपना कब्‍जा कर लिया, जिसे पाकिस्‍तानी सेना ने लिया था. कारगिल एक पारंपरिक युद्ध में एक दूसरे का सामना करने वाली दो परमाणु-सक्षम शक्तियों का एक अनूठा उदाहरण था. ये भी पढ़ें: करगिल विजय दिवस: 'एक तरफ साथियों को खोने का दर्द तो दूसरी ओर विजय का आनंद'

Kargil Vijay Diwas 20th Anniversary: ऐसे मना रहा है भारत
ऑपरेशन विजय के 527 शहीदों और देश के लिये अपने जान की बाजी लगा देने वाले सैनिकों के लिये करगिल विजय की लौ को नई दिल्ली से करगिल-द्रास सेक्टर तक ले जाया जाता है. यह विजय लौ 11 शहरों से होते हुए करगिल वार मेमोरियल तक पहुंचती है. देश के राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद और सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत इस विजय लौ को लेने के लिये करगिल-द्रास सेक्‍टर में मौजूद होंगे. वहां माल्‍यार्पण सामारोह होगा.

करगिल युद्ध के नायकों को विशेष श्रद्धांजलि देने के लिये प्रसिद्ध शेफ संजीव कपूर और उनकी टीम शहीदों, सेवारत सैनिकों के परिवारों के लिए युद्ध क्षेत्र में आयोजित होने वाली 'बड़ाखाना' (भव्य रात्रिभोज) में 'तिरंगा खीर' तैयार करेगी. यहां सेना के दिग्गज भी मौजूद होंगे. इस बीच, महाराष्ट्र बॉलीवुड फिल्म उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक के विशेष शो का आयोजन करके 'कारगिल विजय दिवस' मनाएगा. राज्य भर में 500 से अधिक स्क्रीनों पर इस फिल्‍म को दिखाया जाएगा.
Loading...

कर‍ियर और नौकरी से संबंधित अन्‍य खबरें पढ़ने के ल‍िये यहां क्‍ल‍िक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 26, 2019, 10:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...