लाइव टीवी

केरल PSC परीक्षा में म‍िले पाक‍िस्‍तान स‍िव‍िल सेवा परीक्षा के प्रश्‍न? जानें क्‍या है सच्‍चाई

News18Hindi
Updated: February 26, 2020, 5:05 PM IST
केरल PSC परीक्षा में म‍िले पाक‍िस्‍तान स‍िव‍िल सेवा परीक्षा के प्रश्‍न? जानें क्‍या है सच्‍चाई
यह कहा जा रहा है क‍ि केरल पीएससी परीक्षा के प्रश्‍न, पाकिस्‍तान लोक सेवा परीक्षा केे प्रश्‍नों से म‍िलते-जुलते हैं.

कांग्रेस विधायक पीटी थॉमस ने आरोप लगाया है कि‍ हाल ही में आयोज‍ित केरल प्रशासन‍िक सेवा परीक्षा में, पाक‍िस्‍तान स‍िव‍िल सेवा परीक्षा के 6 प्रश्‍न शाम‍िल क‍िये गए हैं. केरल की प्राशासन‍िक सेवा परीक्षा में इस साल 3.40 लाख उम्‍मीदवारों ने ह‍िस्‍सा ल‍िया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2020, 5:05 PM IST
  • Share this:
नई द‍िल्‍ली: पहले ही कोच‍िंंग सेंटर्स के साथ कथ‍ित सांंठ-गांठ के आरोपों के घेरे में चल रहे केरल सरकार का भर्ती न‍िकाय लोक सेवा आयोग, एक बार फ‍िर चर्चा का केंद्र बन गया है. इस बार आरोप है क‍ि केरल प्रशासन‍िक सेवा(KAS) परीक्षा के लिए पाकिस्तान सिविल सेवा परीक्षा के प्रश्‍नों की नकल की गई है. यह आरोप कांग्रेस विधायक पीटी थॉमस ने लगाया है. पीटी थॉमस के अनुसार केरल प्रशासनिक सेवा परीक्षा में कुल 6 सवाल पाक‍िस्‍तान स‍िव‍िल सेवा परीक्षा से नकल क‍िये गए हैं. कांग्रेस नेता थॉमस ने कहा क‍ि राज्‍य पीएससी की ओर से यह एक गंभीर चूक है और सरकार को इस घटना की जांच का आदेश देना चाहिए.

PSC अध्‍यक्ष एमके सकीर (M K Sakeer) ने इस पर कहा क‍ि आरोप लगाकर पीएससी की छव‍ि धूम‍िल करने की कोश‍िश की जा रही है. उन्‍होंने कहा क‍ि परीक्षा का पेपर देश के व‍िशेषज्ञ तैयार करते हैं और PSC का उन पर कोई न‍ियंत्रण नहीं है. दुनिया में हर जगह लोक प्रशासन के टॉप‍िक (topic of public administration) कमोबेस एक ही जैसे हैं. ऐसे में वह सवाल थ्‍योरी सेक्‍शन में थे. वो सवाल क‍िसी भी देश के क‍िसी भी एग्‍जाम में पूछे जा सकते हैं. अगर एक परीक्षा के कुछ सवाल, दूसरी परीक्षा के प्रश्‍नों से मेल खा जाते हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है.

बता दें क‍ि प‍िछले शन‍िवार को आयोजि‍त परीक्षा में इस बार करीब 3.40 लाख उम्‍मीदवारों ने ह‍िस्‍सा ल‍िया है. इस एग्‍जाम के आधार पर ड‍िप्‍टी कलेक्‍टर पदों पर सीधी भर्ती होती है. प‍िछले कुछ वर्षों में उम्‍मीदवारों के बीच KAS परीक्षा का क्रेज बढ़ा है. दरअसल, इसके जर‍िये चयन‍ित उम्‍मीदवारों को आठ साल के भीतर ही IAS के दर्जे से सम्मानित किया जाएगा. इस वजह ने नौकरी चाहने वालों के बीच KAS परीक्षा को एक हाई-प्रोफाइल इवेंट बना दिया.

हालांकि, पीएससी के पूर्व अध्यक्ष डॉ. केएस राधाकृष्णन ने कहा कि पीएससी की जिम्मेदारी है कि वह अपनी परीक्षा की विश्‍वसनीयता सुनिश्‍च‍ित करे. किसी भी ऐसी घटना से उसकी छवि धूमिल होती है तो इसके ल‍िये चेयरमैन जिम्मेदार होता है. उन्‍होंने कहा कि पाकिस्तान सिविल सेवा परीक्षा से प्रश्‍नों का उठाना एक गंभीर चूक है और इसे उचित नहीं ठहराया जा सकता है.



राज्‍य का एंटी करप्‍शन ब्‍यूरो और व‍िजि‍लेंस व‍िभाग पहले ही पीएससी के एक मामले की जांच कर रहा है. इससे पहले केरल पीएससी पर यह आरोप लगाया था क‍ि केएएस परीक्षा के प्रश्‍न एक लॉबी द्वारा लीक किए गए थे, जिसका पीएससी में अधिकारियों के साथ घनिष्ठ संबंध है. यह मामला तब प्रकाश में आया, जब KAS उम्‍मीदवारों ने इसकी श‍िकायत की.

यह भी पढ़ें: 
जानिए UPSC पर्सनल इंटरव्यू से पहले क्यों भरवाया जाता है DAF फॉर्म
नया कोर्स : प्रेगनेंसी के दौरान क्या पहनें, क्या खाएं इसके बारे में होगी पढ़ाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 5:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर