Kerala SSLC Result 2020: केरल बोर्ड ने जारी किए दसवीं के नतीजे, 98.8 फीसदी रहा रिजल्ट

केरल बोर्ड ने दसवीं के नतीजे घोषित कर दिए हैं.
केरल बोर्ड ने दसवीं के नतीजे घोषित कर दिए हैं.

Kerala SSLC Result 2020: केरल बोर्ड (Kerala Board) की दसवीं क्लास की परीक्षा में इस साल 4 लाख से अधिक स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया था. परीक्षाएं 10 मार्च से 24 मार्च के बीच होनी थीं लेकिन कोरोना वायरस महामारी के चलते परीक्षा को बीच में ही स्थगित करनी पड़ी.

  • Share this:
नई दिल्ली. यूपी बोर्ड रिजल्ट (UP Board Result) के ऐलान के बाद अब केरल बोर्ड (Kerala Board) भी दसवीं क्लास के नतीजे घोषित कर दिए हैं. अलग अलग छात्र का रिजल्ट जारी करने के साथ साथ बोर्ड ने स्कूल-वाइज़ भी रिजल्ट जारी किया है. स्कूल, prd.kerala.gov.in या keralapareekshabhavan.in  पर उपलब्ध KITE चैनल के ऑनलाइन पोर्टल लिंक से सभी छात्रों की कंप्लीट लिस्ट डाउनोड कर सकते हैं. छात्र, केरल शिक्षा बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट - keralaresults.nic.in - और keralapareekshabhavan.in पर रिजल्ट देख सकते हैं. इसके अलावा Manabadi.co.in और Schools9.com जैसी वेबसाइट पर भी स्टूडेंट्स अपना परीक्षा परिणाम चेक कर सकते हैं.

इन वेबसाइट्स पर देख सकते हैं नतीजे


keralaresults.nic.in
keralapareekshabhavan.in
Manabadi.co.in
Schools9.com
sslcexam.kerala.gov.in


results.kite.kerala.gov.in
results.kerala.nic.in
prd.kerala.gov.in.

4 लाख से ज्यादा बच्चों ने दी थी परीक्षा


केरल बोर्ड (Kerala Board) की दसवीं क्लास की परीक्षा में इस साल 4 लाख से अधिक स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया था. केरल बोर्ड की परीक्षा पर भी कोरोना वायरस का प्रभाव देखने को मिला. परीक्षाएं 10 मार्च से 24 मार्च के बीच होनी थीं लेकिन कोरोना वायरस महामारी के चलते परीक्षा को बीच में ही स्थगित करनी पड़ी. बाद में केरल बोर्ड ने स्थगित किए गए पेपर्स का आयोजन 26 मई से लेकर 30 मई तक किया.

ये भी पढ़ें
CBSE एग्‍जाम, JEE मेन, NEET और ICAI CA Exam 2020 पर पढ़ें सबसे बड़ी अपडेट
इस राज्य में 15 जुलाई तक टली यूनिवर्सिटी की परीक्षा, सीएम ने की घोषणा

पिछले साल ऐसा रहा था परिणाम


साल 2019 में केरल बोर्ड की दसवीं क्लास के परिणाम 6 मई को जारी किए गए थे. तब 4.3 लाख बच्चों ने एग्जाम पास किया था और दसवीं का कुल पास प्रतिशत 98.11 रहा था. जिलेवार बात करें तो एर्नाकुलम का परिणाम सबसे अच्छा और वायनाड का सबसे खराब रहा था. लक्षद्वीप में 73.5 प्रतिशत बच्चे पास हुए. भावना एन. सिवादास ने 99.8 प्रतिशत के साथ पिछले साल टॉप किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज