पढ़िए यूपी बोर्ड की पिछली टॉपर रहीं तनु तोमर की कहानी, जब रिजल्ट आया तो......

पढ़िए यूपी बोर्ड की पिछली टॉपर रहीं तनु तोमर की कहानी, जब रिजल्ट आया तो......
बागपत की रहने वाली तनु तोमर ने 12वीं यूपी बोर्ड टॉप किया था. उन्‍होंने 97.80 प्रतिशत अंक‍ हासिल किए थे. तनु ने 500 में से 489 अंक हासिल किए थे. उन्‍होंने 10वीं पास करने के बाद 17 से 18 घंटे पर पढ़ाई करनी शुरू कर दी थी. उनका सपना डॉक्टर बनने का था.

यूपी बोर्ड (UP Board) की पिछले साल 12वीं की टॉपर रहीं तनु तोमर (Tanu Tomar) प्रदेश के बागपत (Baghpat) जिले की रहने वाली हैं. इतिहास रचने वालीं तनु की ये कहानी भी बड़ी दिलचस्प है.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी बोर्ड के साल 2020 के 12 वीं का एग्जाम रिजल्ट जारी हो चुका है. इस साल ने रिजल्ट के दौरान .... मार्क्स लाकर टॉपर की लिस्ट में शामिल हो चुके हैं. लेकिन पिछले साल की 12वीं की टॉपर रही तनु तोमर की कहानी भी बहुत दिलचस्प है. प्रदेश के बागपत (Baghpat) जिले के फतेहपुर पुट्ठी गांव की रहने वाली तनु तोमर (Tanu Tomar) ने सफलता हासिल करने के बाद कहा था कि इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी आखिरी दम तक प्रयास करना. जैसे ही उन्हें रिजल्ट की जानकारी हुई थी वो भावुक हो गईं. इस दौरान उनकी आंखों से आंसू निकलने लगे. आश्चर्य की बात ये थी कि रिजल्ट की जब उन्हें जानकारी मिली तो वो अपने खेत में मौजूद थीं और गेहूं की कटाई करवा रहीं थी. बाद में उन्होंने इसकी जानकारी अपने पिता को भी दी.

बेटियों को अगर मिले मौका तो...
बागपत की बेटी तोमर ने रिजल्ट आने के बाद कहा था कि अगर बेटियां आसमान से तारे तोड़ कर ला सकती हैं. बशर्ते सरकार बेटियों की सुरक्षा करे.

रोज तय करनी पड़ती थी सात किलोमीटर की दूरी



तनु के टॉपर बनने की राहत इतनी भी आसान नहीं रही. उन्हें भी हर तरीके से संघर्ष करना पड़ा. उनका स्कूल गांव से 7 किलोमीटर दूर था. इस कारण उनका ज्यादातर समय स्कूल आने और जाने में बीत जाता था. उन्होंने अपने इस सफलता का श्रेय़ अनुशासन के साथ साथ समय के सही तरीके से पालन करने को बताया था.



नहीं ली किसी भी तरह की कोचिंग और इस तरह पाई सफलता
साल 2019 की टॉपर रहीं तनु ने पढ़ाई को पूरा करने के लिए किसी भी तरह की कोचिंग का सहारा नहीं लिया था. उन्होंने पढ़ाई में किसी भी तरह की समस्या होने पर अपने स्कूल में एक्स्ट्रा क्लासेज ली थी और सफलता पाने में कामयाब हो सकी. तनु ने अपनी सफलता का श्रेय पूरी तरह संकल्प और मेहनत को दिया.

लैंप की रोशनी में की पढ़ाई
टाइम्स नाऊ के अनुसार, उनके गांव में कई बार लाइट की समस्या रहती थी. साथ ही इनवर्टर डाउन हो जाता था. इसके बावजूद तनु ने अपनी पढ़ाई में किसी भी तरह की बाधा नहीं पड़ने दी. उन्होंने लैंप की लाइट में भी रहकर पढ़ाई को जारी रखा. उनका सपना डॉक्टर बनने का था.

लड़कियां ले सकती हैं प्रेरणा
बागपत के एक गांव की रहने वाली तनु तोमर की सफलता ये यह साफ हो गया था कि आज के दौर में वे किसी से भी पीछे नहीं हैं. भले ही सफलता को हासिल करने में कई तरह की बाधाएं आ रही हो. लेकिन मेहनत और इच्छाशक्ति के बदौलत हर बाधा को तोड़ा जा सकता है.

 

 

ये भी पढ़ें:

तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूं, पढ़ें अल्लामा इक़बाल की शायरी

किस खुफिया जगह पर खुलती है वाइट हाउस की सीक्रेट सुरंग

Fact Check: क्या नास्त्रेदमस ने 500 साल पहले ही कोरोना पर किया था आगाह?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading