Home /News /career /

कोविड-19: लॉकडाउन के चलते गुजरात के स्कूल वापस कर सकते हैं दो महीने की फीस

कोविड-19: लॉकडाउन के चलते गुजरात के स्कूल वापस कर सकते हैं दो महीने की फीस

कोरोना वायरस का असर भारत की शिक्षा व्यवस्था पर भी पड़ा है.

कोरोना वायरस का असर भारत की शिक्षा व्यवस्था पर भी पड़ा है.

गुजरात स्टेट स्कूल मैनेजमेंट फेडरेशन दो महीने की फीस लौटाने को लेकर स्कूलों से बात कर रहा है. अगर ऐसा होता है तो यह वाकई में एक मिसाल होगी.

    नई दिल्ली. कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में लॉकडाउन की वजह से व्यापारी वर्ग, मध्य वर्ग और गरीबों पर आर्थिक बोझ बढ़ गया है. ऐसे में शहर के स्कूल उनको राहत देने का मूल बना रहे हैं. गुजरात स्टेट स्कूल मैनेजमेंट फेडरेशन इस संभावना पर काम भी कर रहा है कि स्कूल पैरंट्स की दो महीने की फीस लौटा दें. अगर ऐसा होता है तो यह वाकई में एक मिसाल होगी.

    गुजरात में फेडरेशन के तहत 3,700 से ज्यादा स्कूल रजिस्टर्ड हैं. इनमें से 70 फीसदी स्कूलों को सरकारी सहायता मिलती है. बाकी सेल्फ फाइनैंस्ड हैं. फेडरेशन के प्रेसिडेंट भास्कर पटेल ने बताया कि जो पैरंट्स अपने बच्चों का दाखिला सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में कराते हैं, उनकी आय बहुत सीमित होती है. चूंकि दो महीने क्लास नहीं चलेंगी और स्कूल परीक्षाओं का आयोजन नहीं करेंगे तो इस पर पैसा खर्च नहीं होगा.

    स्कूल बंद रहने की वजह से बिजली बिल कम होगा और रखरखाव का चार्ज भी कम होगा. ऐसे में स्कूल के पास स्टाफ का वेतन देने के लिए फंड्स है. इसलिए हमने अप्रैल और मई की फीस लौटाने का प्रस्ताव रखा है. पटेल उस्मानपुरा स्थित अरोमा स्कूल के ट्रस्टी हैं. सेल्फ फाइनैंस्ड स्कूलों की फीस हजारों में होती है जबकि सहायता प्राप्त स्कूलों की फीस कम होती है.

    इस मामाले को लेकर शिक्षाविद किरित जोशी ने कहा कि यह अच्छा विचार है लेकिन हम सिर्फ ऊपरी खर्च ही बचा पाएंगे. स्कूलों को बंद रहने की स्थिति में भी टीचर्स और स्टाफ की सैलरी देनी पड़ेगी. मेरे ख्याल से काफी फीस वसूलने वाले सेल्फ फाइनैंस्ड स्कूलों के पैरंट्स को फीस को दान कर देना चाहिए ताकि वायरस के खिलाफ लड़ाई मजबूती से लड़ी जा सके. उनके लिए दो महीने की फीस कुछ मायने नहीं रखती है.

    एक स्कूल के ट्रस्टी ने बताया कि कोई भी ऐलान करने से पहले इस आइडिया पर अहमदाबाद स्कूल मैनेजमेंट कमिटी के साथ चर्चा करना होगा. उन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि हमारे स्कूल में करीब 15,00 से 1,600 छात्र पढ़ते हैं जो लोअर मिड्ल क्लास और गरीब वर्ग से हैं. हमारी फीस 500 रुपये महीने है. अगर हम पैरंट्स को एक हजार रुपये वापस दे देंगे तो इससे उनको काफी मदद मिलेगी, लेकिन कोई भी फैसला लेने से पहले हमें इसके सारे पहलुओं पर गौर करना होगा.

    वहीं ज्यादातर पैरंट्स की फीस वापस लेने में दिलचस्पी नहीं है. उनका मानना है कि स्कूल उनको फीस लौटाने की बजाय बच्चों के सिलेबस पूरा करने पर ध्यान दें. उनका कहना है कि बच्चों की पढ़ाई पर असर नहीं पड़ना चाहिए. कुछ पैरंट्स का कहना है कि ऐसे समय में हमें स्कूल के साथ खड़े रहना चाहिए.

    ये भी पढ़ें- WBBSE: बंगाल बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट और अगले सत्र को लेकर बनी असमंजस की स्थितिundefined

    Tags: Corona, Gujrat news, Lockdown, Online education, Private School

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर