लाइव टीवी

नया कोर्स : प्रेगनेंसी के दौरान क्या पहनें, क्या खाएं इसके बारे में होगी पढ़ाई, लखनऊ यूनिवर्सिटी शुरू कर रही है कोर्स

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 6:21 PM IST
नया कोर्स : प्रेगनेंसी के दौरान क्या पहनें, क्या खाएं इसके बारे में होगी पढ़ाई, लखनऊ यूनिवर्सिटी शुरू कर रही है कोर्स
प्रेग्नेंट महिलाएं घर से बाहर जाते वक्त मुंह पर रूमाल या मास्क लगाएं.

योजना के तहत स्टूडेंट्स को गर्भवती स्त्री से जुड़ी कई विशेष बातों को बारे में बताया जाएगा. इसमें उनको गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के पहनावे, खानपान, संगीत और खुद को फिट रखने के बारे में सिखाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 6:21 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. लखनऊ यूनिवर्सिटी में जल्द ही नए शैक्षणिक सत्र से 'गर्भ संस्कार' पर एक डिप्लोमा कोर्स शुरू करने की योजना बन रही है. इंस्टीट्यूट ऑफ वीमेन स्टडीज के अंतर्गत इस कोर्स की शुरुआत होगी. इस योजना के तहत स्टूडेंट्स को गर्भवती स्त्री से जुड़ी कई विशेष बातों को बारे में बताया जाएगा. इसमें उनको गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के पहनावे, खानपान, संगीत और खुद को फिट रखने के बारे में सिखाया जाएगा.
खास बात यह है कि इसमें पुरुष छात्र भी दाखिला ले सकते हैं. यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता दुर्गेश श्रीवास्तव ने बताया कि, प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, जो राज्य के विश्वविद्यालयों की कुलपति भी हैं, ने प्रस्ताव के बाद यह फैसला लिया है. उन्होंने प्रशासन के समक्ष लड़कियों को माताओं के रूप में उनकी संभावित भूमिका के लिए प्रशिक्षित करने का प्रस्ताव दिया था. इस योजना को शुरू करने के बाद लखनऊ यूनिवर्सिटी देश की ऐसी पहली यूनिवर्सिटी बन जाएगी, जो इस तरह के किसी विषय के बारे में पढ़ाएगी.

राज्यपाल के प्रस्ताव के बाद किया फैसला
राज्यपाल के प्रस्ताव के बाद ही यूनिवर्सिटी ने इस योजना को शुरू किया है. इसके लिए गाइड लाइन्स तैयार हो चुकी हैं, जिसमें 16 तरह की विधियां सिखाई जाएंगी. प्रोग्राम मुख्य रूप से गर्भवती महिलाओं के लिए परिवार नियोजन और पोषण मूल्य पर जोर देगा. पिछले साल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह के दौरान राज्यपाल ने महाभारत के योद्धा अभिमन्यु का उदाहरण देते हुए कहा था कि अभिमन्यु ने अपनी मां के गर्भ में रहकर ही युद्ध कला सीख ली थी. साथ ही यह भी दावा किया कि जर्मनी में एक संस्थान इस तरह का कोर्स करवाता है.



तीन महीने का सर्टिफिकेट और एक साल का होगा डिप्लोमा
यूनिवर्सिटी में शुरू होने वाले इस कोर्स को स्त्री रोग विशेषज्ञों ने भी सही बताया है. उनका मानना है कि यह एक संवेदनशील मुद्दा है, ऐसे में अगर छात्रों को मातृत्व के बारे में पढ़ाया जाएगा, तो इससे हमारे देश के लिए एक स्वस्थ भविष्य बनेगा. इस योजना के लिए सर्टिफिकेट और डिप्लोमा भी दिया जाएगा. तीन महीने के लिए इस योजना में शामिल होने वाले स्टूडेंट्स को सर्टिफिकेट और छह से एक साल तक इस योजना में आने वाले स्टूडेंट्स को डिप्लोमा दिया जाएगा.



ये भी पढ़ें- 83 साल की उम्र में इंग्लिश में पोस्ट ग्रेजुएशन करने वाले सोहन सिंह की ऐसी है कहानी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 6:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading