मिसाल: कम उम्र में शादी की वजह से छूटी थी पढ़ाई, अब मां बेटे ने साथ पास की 10th क्लास

मिसाल: कम उम्र में शादी की वजह से छूटी थी पढ़ाई, अब मां बेटे ने साथ पास की 10th क्लास
महाराष्ट्र बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में इस साल 17 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स शामिल हुए थे.

महाराष्ट्र में माध्यमिक बोर्ड की परीक्षा के नतीजे 29 जुलाई को घोषित किए गए थे. इस साल दसवीं में कुल 95.30% स्टूडेंट्स पास हुए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 3, 2020, 7:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ये कहानी महाराष्ट्र के पुणे जिले के बारामती शहर की निवासी बेबी गुराव की है. बेबी ने अपने बेटे के साथ बोर्ड की परीक्षा पास की है. 36 वर्षीय बेबी ने 64.4 प्रतिशत और उनके 16 वर्षीय बेटे सदानंद ने 73.2 प्रतिशत अंक प्राप्त किए.

कम आयु में विवाह 
बेबी कपड़े बनाने वाली कंपनी में काम करती हैं. उन्होंने न्यूज एजेंसी को बताया, कम आयु में विवाह होने के कारण मेरी स्कूली शिक्षा अधूरी रह गई थी. लेकिन मेरे पति ने मुझे बेटे के साथ परीक्षा देने के लिए प्रोत्साहित किया. महिला के पति प्रदीप गुराव और बेटे ने पढ़ाई में बेबी की मदद की.

12वीं पास करने का लक्ष्य 
बेबी के पति प्रदीप पेशे से पत्रकार हैं. उन्होंने कहा, मेरी पत्नी और बेटे ने मेहनत से पढ़ाई कर अच्छे अंक प्राप्त किए. मैं दोनों के प्रदर्शन से खुश हूं और गर्व महसूस कर रहा हूं. आत्मविश्वास से परिपूर्ण बेबी ने अब कक्षा 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने का लक्ष्य स्थापित किया है.



95.30% स्टूडेंट्स पास
महाराष्ट्र में माध्यमिक बोर्ड की परीक्षा के नतीजे 29 जुलाई को घोषित किए गए थे. इस साल दसवीं में कुल 95.30% स्टूडेंट्स पास हुए हैं.  पिछले साल महाराष्ट्र बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में 77.10 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए थे. स्टूडेंट्स महाराष्ट्र बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट mahresult.nic.in पर अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं

ये भी पढ़ें-
दिल्ली सरकार से फंडिड DU कॉलेजों के स्टाफ को तीन महीने से नहीं मिली सैलरी
विदेश में मेडिकल की पढ़ाई के लिए छात्रा की मांग,एग्जाम के बिना दें NEET रिजल्ट

इस साल 17 लाख 65 हजार 898 स्टूडेंट्स ने महाराष्ट्र बोर्ड की दसवीं की परीक्षा दी है. महाराष्ट्र बोर्ड की दसवीं की परीक्षा पास करने के लिए छात्रों को प्रत्येक विषय की थ्योरी में कम से कम 20 प्रतिशत अंकों के साथ कुल 35 फीसदी अंक हासिल करने की आवश्यकता होती है. अब रिजल्ट जारी होने के बाद स्टूडेंट्स कुछ ही दिनों में अपने-अपने स्कूल से मार्कशीट हासिल कर सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज