परीक्षाएं आयोजित करने को लेकर उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, कहा-आज संकट बढ़ गया तो...

परीक्षाएं आयोजित करने को लेकर उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, कहा-आज संकट बढ़ गया तो...
उद्धव ठाकरे के अनुसार कोरोना वायरस के चलते हालात लगातार बिगड़ रहे हैं.

देश के अन्य हिस्सों की तरह महाराष्ट्र में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में प्रदेश के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने हालात पर चिंता जाहिर की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2020, 7:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackerey) ने बताया है कि महाराष्ट्र पब्लिक सर्विस कमीशन (Maharashtra Service Public Commission) यानी एमपीएससी (MPSC) एग्जाम स्थगित कर दिए गए हैं. ठाकरे ने सोशल मीडिया पर ये जानकारी साझा की. उन्होंने साथ ही कहा कि परीक्षा की नई तारीखों का ऐलान बाद में किया जाएगा. ठाकरे ने ट्वीट करते हुए कहा, प्रदेश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के चलते महाराष्ट्र पब्लिक सर्विस कमीशन का एग्जाम स्थ​गित करने का फैसला किया गया है.

जून में परीक्षा नहीं ली, अब तो संकट बढ़ गया है...
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिव सेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा, राज्य सरकार परीक्षाएं आयोजित करने के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन जून में अगर हम परीक्षा लेने की स्थिति में नहीं थे, तो अब जबकि ये संकट बढ़ गया है तो हम कैसे परीक्षा ले सकते है? बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या करीब 33 लाख तक पहुंच चुकी है. प्रतिदिन देशभर में करीब 60 से 70 हजार तक नए मामले सामने आ रहे हैं.

बच्चों के भविष्य से नहीं खेल सकते
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरने ने ये भी बताया कि जून में राज्य सरकार ने यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स को इंटरनल असेसमेंट और सेमेस्टर एग्जाम के आधार पर पास करने का फैसला किया था. हालांकि कोई भी स्टूडेंट एग्जाम देना चाहता है तो वो बाद में परीक्षा आयोजित होने पर उसमें हिस्सा ले सकता है.



ये भी पढ़ें
कॉलेज में कई सब्जेक्ट्स में हुए फेल, आईएएस की परीक्षा में हासिल की 77वीं रैंक
3 घंटे के भीतर डाउनलोड किए गए नीट के 4 लाख से अधिक एडमिट कार्ड

इसके बाद ये स्टूडेंट का फैसला होगा कि उसे इंटरनल असेसमेंट के आधार पर नंबर मिलें या फिर परीक्षा में उसके प्रदर्शन के आधार पर. ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार मौजूदा खतरनाक हालात में परीक्षा आयोजित कर स्टूडेंट्स के भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकती.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज